Vaishali Mysterious Temple : अद्वितीय चौमुखी शिवलिंग सहित, यहाँ एक अनदेखा मंदिर |

Vaishali Mysterious Temple

Vaishali Mysterious Temple: रहस्यमय मंदिर, वैशाली में भगवान शिव का चौमुखी शिवलिंग वाला अद्भुत मंदिर |

Vaishali Mysterious Temple
Vaishali Mysterious Temple

Vaishali Mysterious Temple: भारत में भगवान शिव के अनगिनत मंदिर हैं, लेकिन कुछ मंदिरों की अलग ही पहचान है। ऐसा ही एक अद्भुत मंदिर बिहार के वैशाली में है, जिसमें चौमुखी (चक्रकार) शिवलिंग है। यह मंदिर देश का एकमात्र चौमुखी शिवलिंग वाला मंदिर है।

Vaishali Mysterious Temple:  इस मंदिर की रहस्यमयी वातावरण की वजह से यहां आने वाले लोगों में बहुत अच्छी प्रतिस्पर्धा है। इसे देखने के लिए अन्य राज्यों और देशों के लोग भी यहां आते हैं। मंदिर से जुड़ी कई मान्यताएं और रहस्य हैं जिनकी खोज में लोग बहुत उत्साहित हैं।

Vaishali Mysterious Temple:  इस मंदिर के चारों ओर कई प्राचीन कथाएं भी हैं, जो इसे और भी रोमांचक बनाती हैं। इसके साथ ही, मंदिर की स्थापना से जुड़ी बातें भी हैं जो इसे धार्मिक और ऐतिहासिक दृष्टिकोण से बेहद महत्वपूर्ण बनाती हैं।

कहां है मंदिर

Vaishali Mysterious Temple: यह मंदिर बिहार के वैशाली जिले में कम्मन छपरा में स्थित है। इस मंदिर को झारखंड के बाबा वैद्यनाथ मंदिर और वाराणसी के काशी विश्वनाथ मंदिर के बीच में पड़ता है। यहां महाशिवरात्रि के मौके पर श्रद्धालुओं की काफी भीड़ जुटती है।

Vaishali Mysterious Temple: इस मंदिर का निर्माण स्थानीय लोगों की विशेष आस्था का प्रतीक है। यहां चौमुखी (चक्रकार) शिवलिंग है, जो कि अनूठा और अद्वितीय है। इस मंदिर के आसपास कई प्राचीन कथाएं भी संबंधित हैं, जो इसे और भी रोमांचक बनाती हैं।मंदिर के प्रांगण में महाकाली मंदिर भी है, जो कि भक्तों की विशेष ध्यान आकर्षित करता है। इस स्थान पर स्थितिगत शांति और भगवान की कृपा की अनुभूति होती है, जो भक्तों को आत्मानुभूति की अद्वितीय अनुभूति देती है।

इससे भी पढ़े :- कमरे में एसी का तापमान कितना होना चाहिए? बिजली की खपत कम करने के उपाय |

क्या है मान्यता

Vaishali Mysterious Temple: मंदिर को लेकर कई मान्यताएं और कथाएं हैं, जो इसे एक अनूठे और रहस्यमय स्थान बनाती हैं। इस मंदिर की मान्यता है कि जब भगवान श्रीराम, लक्ष्मण, और गुरु विश्वामित्र जनकपुर जा रहे थे, तो तीनों यहां ठहरे थे और चौमुखी महादेव की पूजा भी की थी। इस मंदिर की स्थापना द्वापर युग में भगवान श्रीकृष्ण के समय वणासुर ने कराई थी।

Vaishali Mysterious Temple
Vaishali Mysterious Temple

Vaishali Mysterious Temple: यहां मौजूद शिवलिंग अद्वितीय है, जिसका चतुर्मुख रूप है, और ऐसा कहीं और नहीं है। इस शिवलिंग की ऊँचाई चक्रकार आधार से करीब 5 फीट है। मंदिर में सात महल भी हैं, जो अपने आकर्षक और आधुनिक वास्तुकला के लिए प्रसिद्ध हैं।मंदिर के दक्षिण भाग में शिवलिंग के मुख में त्रिनेत्रधारी शिव हैं, जो सृष्टि के पालनहार के रूप में जाने जाते हैं। इसके अतिरिक्त, अन्य तीन दिशाओं में भगवान ब्रह्मा, विष्णु, और सूर्यदेव की मूर्तियां स्थापित हैं, जो दिशाओं के रक्षक माने जाते हैं।

Vaishali Mysterious Temple: इस मंदिर की महत्वपूर्ण विशेषताएं और गौरवपूर्ण इतिहास को देखते हुए, यहां की महत्वता भगवान शिव और उनके भक्तों के लिए अत्यंत उच्च है। इस मंदिर को देखने के लिए हर साल महाशिवरात्रि के अवसर पर यहां भगवान के भक्तों की भीड़ जुटती है।इस मंदिर की कथा और मान्यताओं में छिपी गहरी आध्यात्मिकता को जानकर यह लगता है कि इसे देखने का अनुभव अद्वितीय होगा। इसके रहस्यों और प्राचीनता में छुपी गहराई ने इसे एक विशेष स्थान बना दिया है जो धार्मिकता, ऐतिहासिकता, और आध्यात्मिकता का समन्वय करता है।

इस प्रकार, मंदिर के रहस्यमयी और प्रेरणादायक माहौल में भक्तों को अनूठा और शांतिपूर्ण अनुभव मिलता है, जो उनके जीवन में नई ऊर्जा और आध्यात्मिक दिशा देता है।

खुदाई के दौरान मिला था शिवलिंग

Vaishali Mysterious Temple: ढेलफोरवा क्षेत्र में स्थित चौमुखी महादेव मंदिर की कहानी अद्वितीय और आश्चर्यजनक है। इस मंदिर के शिवलिंग के मिलने की कहानी भी बहुत ही रोचक है।

Vaishali Mysterious Temple: करीब 120 साल पहले, इसी स्थान पर कुएं की खुदाई चल रही थी। इस काम के दौरान, एक अद्वितीय शिवलिंग का दर्शन हुआ, जो कि दुर्लभ माना गया। शिवलिंग को देखकर लोगों ने खुदाई बंद कर दी, क्योंकि वे मानते थे कि यह एक स्वर्गीय रहस्यमय स्थान है।कई सालों तक, इस शिवलिंग को यूं ही छोड़ दिया गया, जबकि कुछ ग्रामीण लोग प्रतिदिन इसके आसपास मिट्टी के 5 ढेले रखकर आते थे और अपने शुभ कार्यों की शुरुआत करते थे।

Vaishali Mysterious Temple
Vaishali Mysterious Temple

Vaishali Mysterious Temple: धीरे-धीरे, इस अद्वितीय शिवलिंग को मंदिर के रूप में स्थापित किया गया, और उस समय इसे “ढेलफोरवा महादेव मंदिर” का नाम दिया गया। इसके बाद समय के साथ-साथ, मंदिर का नाम बदलता रहा, और 2013 में इसे “चौमुखी महादेव मंदिर” के रूप में जाना गया।

Vaishali Mysterious Temple: चौमुखी महादेव मंदिर की यह कहानी और इसका नाम बदलने का सफर, इसे एक विशेष स्थान बनाता है। यहां के शिवलिंग के चारों ओर चार मुख होने की खासता, इसे और भी आकर्षक बनाती है। भक्तों की आस्था और विश्वास के तेजी से बढ़ते हुए प्रमुखतः इस मंदिर को भगवान शिव की कृपा और आशीर्वाद से ही उनका आदर्श स्थान मिला है।

 

इससे भी पढ़े :-  मंदिर में भक्तों से अवैध वसूली के मामले का सनसनीखेज खुलासा, मुजफ्फरपुर के गरीबनाथ मंदिर में पुजारियों के प्रवेश पर रोक

2 thoughts on “Vaishali Mysterious Temple : अद्वितीय चौमुखी शिवलिंग सहित, यहाँ एक अनदेखा मंदिर |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *