Site icon DPN

Telangana Phone Tapping Case: तेलंगाना में फिर से उठा फोन टैपिंग विवाद, कांग्रेस की मांग- KCR के दामाद के खिलाफ रेड कॉर्नर नोटिस जारी हो |

Telangana Phone Tapping Case: कांग्रेस नेता कोमाटिरेड्डी वेंकट रेड्डी का आरोप: राज्य में व्यापारियों से लेकर जजों तक के फोन टैप किए गए हैं |

Telangana Phone Tapping Case: तेलंगाना में फोन टैपिंग का मुद्दा एक बार फिर सुर्खियों में है। कांग्रेस नेता और राज्य सरकार में मंत्री कोमाटिरेड्डी वेंकट रेड्डी ने गंभीर आरोप लगाए हैं। उनका कहना है कि तेलंगाना के पूर्व मुख्यमंत्री के. चंद्रशेखर राव के दामाद हरीश राव, फोन टैपिंग के आरोपों के बाद, अमेरिका भाग गए हैं।

Telangana Phone Tapping Case: तेलंगाना में फिर से उठा फोन टैपिंग विवाद, कांग्रेस की मांग- KCR के दामाद के खिलाफ रेड कॉर्नर नोटिस जारी हो |

Telangana Phone Tapping Case:  इस संदर्भ में कांग्रेस ने सरकार से मांग की है कि हरीश राव के खिलाफ सीबीआई के माध्यम से रेड कॉर्नर नोटिस जारी किया जाए। वेंकट रेड्डी ने कहा कि राज्य में कई महत्वपूर्ण लोगों, जैसे व्यापारियों और जजों के फोन टैप किए गए हैं।इस मुद्दे ने राज्य की राजनीति में हलचल मचा दी है और सरकार पर दबाव बढ़ा दिया है। कांग्रेस की ओर से इन आरोपों के बाद जनता और मीडिया का ध्यान फिर से फोन टैपिंग विवाद पर केंद्रित हो गया है। अब देखना होगा कि सरकार इस मामले में क्या कदम उठाती है और हरीश राव पर लगे आरोपों की सच्चाई क्या है।

Telangana Phone Tapping Case: समाचार एजेंसी एएनआई से बातचीत करते हुए कोमाटिरेड्डी वेंकट रेड्डी ने कहा, “इस बात के प्रमाण हैं कि पूर्व मुख्यमंत्री केसीआर के दामाद हरीश राव को अमेरिका भेजा गया है। फोन टैपिंग के मास्टरमाइंड पूर्व एसआईजी डीजी प्रभाकर राव हैं। विधानसभा चुनाव के परिणामों के बाद वह अमेरिका भाग गए। प्रभाकर राव के निर्देश पर 1200 फोन टैप किए गए हैं, जिनमें व्यापारियों से लेकर जजों के फोन शामिल हैं।”

उन्होंने आगे कहा, “हमने हरीश राव के खिलाफ रेड कॉर्नर नोटिस जारी करने के लिए सीबीआई को पत्र लिखा है।”

Telangana Phone Tapping Case: इन आरोपों ने तेलंगाना की राजनीति में हड़कंप मचा दिया है और सरकार पर दबाव बढ़ गया है। कांग्रेस की मांग है कि इस मामले की गहन जांच की जाए और दोषियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाए। जनता और मीडिया का ध्यान एक बार फिर फोन टैपिंग के विवाद पर केंद्रित हो गया है, जिससे इस मुद्दे की गंभीरता और बढ़ गई है। अब देखना होगा कि सरकार इस मामले में क्या कदम उठाती है और क्या कार्रवाई की जाती है।

इससे भी पढ़े :- भविष्यवाणी , नए सरकार बनते ही भारत में इन पांच बदलावों की दिशा |

कैसे खुला फोन टैपिंग का केस?

Telangana Phone Tapping Case: दरअसल, फोन टैपिंग का मामला तब उजागर हुआ, जब पूर्व डीसीपी पी. राधाकृष्ण राव ने आरोप लगाया कि मीडिया जगत के बड़े लोगों, रिटायर्ड पुलिसकर्मियों और नेताओं के फोन की निगरानी की गई। यह कथित तौर पर के. चंद्रशेखर राव के राजनीतिक प्रतिद्वंद्वियों पर नजर रखने के लिए किया गया था। राधाकृष्ण राव ने दावा किया कि 2023 के विधानसभा चुनावों के दौरान, तेलंगाना में अधिकारियों ने कई नेताओं, व्यापारियों और टॉलीवुड सेलिब्रिटी की बातचीत को इंटरसेप्ट किया था।

Telangana Phone Tapping Case: राधाकृष्ण राव के इन खुलासों ने राज्य की राजनीति में हलचल मचा दी है। इस मुद्दे ने सरकार पर दबाव बढ़ा दिया है, जिससे जवाबदेही की मांग तेज हो गई है। कांग्रेस ने इस मामले की गहन जांच की मांग की है और दोषियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की आवश्यकता पर जोर दिया है। अब देखना होगा कि सरकार इन आरोपों पर क्या कदम उठाती है और किस तरह की जांच की जाती है। फोन टैपिंग के इन आरोपों ने जनता और मीडिया का ध्यान आकर्षित किया है, जिससे मामले की गंभीरता और बढ़ गई है।

इससे भी पढ़े :- क्या आपका फोन खो गया है? सरकार की इस वेबसाइट पर ढूंढें, जानें पूरा तरीका |

बीजेपी ने की केसीआर की गिरफ्तारी की मांग

Telangana Phone Tapping Case: फोन टैपिंग के आरोप सामने आने के बाद बीजेपी सांसद बंडी संजय ने तेलंगाना के पूर्व मुख्यमंत्री के. चंद्रशेखर राव की जल्द से जल्द गिरफ्तारी की मांग की है। उन्होंने कहा, “बीआरएस शासन के तहत की गई फोन टैपिंग आपातकाल से भी बदतर है। यह संवैधानिक और मानवाधिकार नियमों का उल्लंघन है।”

Telangana Phone Tapping Case: बंडी संजय ने यह भी कहा, “बीजेपी नेताओं और हमारे समर्थकों की फोन टैपिंग से केसीआर का बीजेपी को लेकर डर अब खुलकर सामने आ गया है।” उन्होंने इस मामले को गंभीर बताते हुए कहा कि इसे नजरअंदाज नहीं किया जा सकता और इसकी गहन जांच होनी चाहिए।

Telangana Phone Tapping Case: बीजेपी की इस मांग ने राज्य में राजनीतिक माहौल को और गरमा दिया है। सरकार पर विपक्ष का दबाव बढ़ता जा रहा है कि वह इस मुद्दे पर स्पष्ट रुख अपनाए और दोषियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई करे। फोन टैपिंग के इस विवाद ने जनता और मीडिया का ध्यान आकर्षित किया है, जिससे मामले की गंभीरता और बढ़ गई है। अब देखना होगा कि सरकार इस मुद्दे पर क्या कदम उठाती है और भविष्य में इस तरह की घटनाओं को रोकने के लिए क्या कदम उठाए जाएंगे।

इससे भी पढ़े :- जम्मू कश्मीर के पुलवामा में मुठभेड़, सुरक्षाबलों ने 2-3 आतंकियों को घेरा |

उन्होंने कहा, “पुलिस पूछताछ के दौरान राधा किशन राव के कबूलनामे से यह स्पष्ट हो गया है कि पूर्व मुख्यमंत्री केसीआर फोन टैपिंग मामले में शामिल थे। यह मेरे पहले के बयान की भी पुष्टि करता है।”

Telangana Phone Tapping Case: बीजेपी सांसद बंडी संजय ने कहा कि राधा किशन राव के बयान ने इस पूरे मामले में केसीआर की संलिप्तता को उजागर कर दिया है। उन्होंने जोर देकर कहा कि यह गंभीर मामला है और इसे अनदेखा नहीं किया जा सकता। संजय ने कहा, “यह संवैधानिक और मानवाधिकार नियमों का उल्लंघन है। बीआरएस शासन के तहत की गई फोन टैपिंग आपातकाल से भी बदतर है।”

Telangana Phone Tapping Case: बीजेपी की इस मांग ने तेलंगाना की राजनीति में हलचल मचा दी है। विपक्ष का दबाव बढ़ता जा रहा है कि सरकार इस मुद्दे पर तुरंत कार्रवाई करे और दोषियों के खिलाफ सख्त कदम उठाए। इस विवाद ने जनता और मीडिया का ध्यान आकर्षित किया है, जिससे मामले की गंभीरता और बढ़ गई है। अब देखना होगा कि सरकार इस मुद्दे पर क्या कदम उठाती है और भविष्य में इस तरह की घटनाओं को रोकने के लिए क्या नीतियाँ अपनाती है।

 

इससे भी पढ़े :- बाजार में तेजी का माहौल, सत्र प्रारंभ से पहले गिफ्ट निफ्टी में 650 अंकों की बढ़त |

Exit mobile version
Skip to toolbar