Site icon DPN

SRH vs KKR: गौतम के गुरुमंत्र और नरेन का जादुई खेल ,ये 5 वजहें बनीं KKR की 10 साल बाद फिर से चैंपियन बनने की कुंजी |

SRH vs KKR: श्रेयस अय्यर की कप्तानी में KKR का शानदार आईपीएल 2024 सीजन , जानिए 5 मुख्य कारण |

SRH vs KKR: कोलकाता नाइट राइडर्स ने आईपीएल 2024 में प्वाइंट्स टेबल के शीर्ष पर रहते हुए शानदार प्रदर्शन किया। क्वालीफायर 1 में जीत हासिल कर KKR ने सीधे फाइनल में प्रवेश किया और फिर फाइनल में सनराइजर्स हैदराबाद को 8 विकेट से हराकर तीसरी बार आईपीएल चैंपियन बनने का गौरव प्राप्त किया। KKR इससे पहले 2012 और 2014 में भी चैंपियन बनी थी, और इस बार फिर से ट्रॉफी उठाने में सफल रही।इस पूरे सीजन में KKR का प्रदर्शन लाजवाब रहा। टीम ने बल्लेबाजी, फील्डिंग, गेंदबाजी और कोचिंग सभी में उत्कृष्टता दिखाई। श्रेयस अय्यर की कप्तानी में टीम ने रणनीतिक खेल का प्रदर्शन किया और महत्वपूर्ण मौकों पर महत्वपूर्ण जीत दर्ज की। आंद्रे रसेल और नितीश राणा ने बेहतरीन बल्लेबाजी की, जबकि गेंदबाजों ने भी अपनी जिम्मेदारियों को बखूबी निभाया।

SRH vs KKR

SRH vs KKR: फील्डिंग में सुधार और एकजुटता के साथ-साथ कोचिंग स्टाफ की रणनीतियों ने टीम को सफलता की ओर अग्रसर किया। KKR की टीम ने हर विभाग में बेहतरीन प्रदर्शन करते हुए यह साबित कर दिया कि वे सही मायने में चैंपियन बनने के हकदार हैं। इस सीजन में उनकी जीत कई मायनों में खास रही और टीम के सभी सदस्यों ने मिलकर इस सफलता को संभव बनाया। आइए उन कारणों के बारे में जानते हैं जिनकी वजह से KKR आईपीएल 2024 की ट्रॉफी जीत पाई:

इससे भी पढ़े :- स्टेडियम में भिड़े RCB और CSK के प्रशंसक, जमकर हुई मारपीट – वीडियो वायरल |

1. सुनील नरेन का गेंद और बल्ले से कमाल

SRH vs KKR: गौतम गंभीर ने एक मेंटर के तौर पर आईपीएल 2024 में KKR में वापसी की थी। उन्होंने आते ही सुनील नरेन को दोबारा टीम का ओपनिंग बल्लेबाज बनाया। नरेन की बल्लेबाजी में धार तब दिखी जब उन्होंने RCB के खिलाफ मैच में 22 गेंदों में 47 रन की पारी खेली थी। इस सीजन में नरेन ने 14 मैचों में बल्ले से 488 रन बनाए हैं। सबसे खास बात यह रही कि उन्होंने करीब 181 के ताबड़तोड़ स्ट्राइक रेट से बैटिंग की।

SRH vs KKR: उनकी गेंदबाजी में भी शानदार प्रदर्शन देखने को मिला, क्योंकि उन्होंने इस सीजन में 17 विकेट लिए हैं। नरेन के इस ऑल-राउंड प्रदर्शन ने KKR के चैंपियन बनने में बहुत बड़ा योगदान दिया है। गौतम गंभीर की रणनीतियों और नरेन के हरफनमौला खेल ने टीम को मजबूती दी और कठिन मुकाबलों में जीत दिलाई।

SRH vs KKR: गंभीर का मेंटर के रूप में अनुभव और नरेन की बेहतरीन फॉर्म ने KKR को इस सीजन में अजेय बना दिया। नरेन की बल्लेबाजी और गेंदबाजी दोनों में उत्कृष्टता ने टीम को कई महत्वपूर्ण मुकाबलों में जीत दिलाई और अंततः चैंपियन बनने में मदद की। इस सीजन में KKR की सफलता का श्रेय काफी हद तक इन दोनों की जोड़ी को जाता है।

2. प्लेऑफ में उम्मीदों पर खरे उतरे मिचेल स्टार्क

SRH vs KKR: मिचेल स्टार्क ने 2015 के बाद इस साल आईपीएल में वापसी की थी। स्टार्क पर 25 करोड़ रुपये की बोली लगाई गई थी, जिससे वे आईपीएल इतिहास के सबसे महंगे खिलाड़ी बने। इस भारी बोली का दबाव उनके प्रदर्शन पर दिखने लगा था, और लीग स्टेज के मुकाबलों में उन्होंने काफी रन लुटाए। एक समय तो उन्हें KKR के लिए कमजोर कड़ी माना जाने लगा था।

SRH vs KKR: मगर प्लेऑफ मुकाबलों में स्टार्क की धार वापस लौट आई। SRH के खिलाफ क्वालीफायर मैच में उन्होंने 3 विकेट लेकर अपनी काबिलियत साबित की और फाइनल मुकाबले में 2 विकेट लेकर दिखाया कि क्यों उन्हें मौजूदा समय के सबसे घातक गेंदबाजों में गिना जाता है। उनके इस शानदार प्रदर्शन ने टीम को महत्वपूर्ण मौकों पर बढ़त दिलाई और KKR को चैंपियन बनने में मदद की।

SRH vs KKR: स्टार्क का यह प्रदर्शन उनके आलोचकों के लिए जवाब था और टीम के लिए संजीवनी साबित हुआ। प्लेऑफ में उनकी वापसी और बेहतरीन गेंदबाजी ने टीम की जीत में अहम भूमिका निभाई। इस प्रकार, मिचेल स्टार्क ने अपने प्रदर्शन से साबित कर दिया कि वे अब भी विश्व के शीर्ष गेंदबाजों में शामिल हैं और उनकी काबिलियत पर कोई शक नहीं किया जा सकता।

SRH vs KKR

3. गौतम गंभीर के गुरुमंत्र

SRH vs KKR: गौतम गंभीर इस सीजन KKR में मेंटर के तौर पर आए थे। गंभीर इससे पहले अपनी कप्तानी में कोलकाता को 2012 और 2014 में चैंपियन बना चुके थे। ऐसे में यह सवाल उठ रहा था कि क्या एक मेंटर के तौर पर गंभीर, कोलकाता की टीम को कुछ फायदा पहुंचा पाएंगे। गंभीर की कप्तानी और कोचिंग में आक्रामकता की झलक हमेशा दिखाई दी है। उनकी इन्हीं एग्रेसिव रणनीतियों और गुरुमंत्रों की बदौलत KKR के खिलाड़ियों में भी जीत की भूख स्पष्ट रूप से दिखाई दी।

SRH vs KKR: गंभीर का अनुभव और उनकी नेतृत्व क्षमता ने टीम को एक नई दिशा दी। उन्होंने खिलाड़ियों को न सिर्फ प्रेरित किया, बल्कि उनमें आत्मविश्वास भी जगाया। गंभीर की सलाह और उनकी आक्रामक सोच ने KKR के खिलाड़ियों को मैदान पर अधिक आत्मविश्वास और ऊर्जा के साथ खेलने के लिए प्रेरित किया। उनकी मेंटरशिप ने खिलाड़ियों को अपने सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन की ओर अग्रसर किया और टीम में एक नई ऊर्जा भर दी।

SRH vs KKR: गंभीर की आक्रामक रणनीतियों और उनकी कड़ी मेहनत ने टीम को मजबूती दी और उन्हें कठिन मुकाबलों में जीत दिलाई। KKR के खिलाड़ियों ने गंभीर की गाइडेंस में खेलते हुए न सिर्फ अपनी व्यक्तिगत प्रदर्शन में सुधार किया, बल्कि टीम के सामूहिक प्रदर्शन को भी ऊंचाई पर पहुंचाया। इस प्रकार, गंभीर की मेंटरशिप ने KKR को एक बार फिर से विजयी बनाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई।

इससे भी पढ़े :- एमएस धोनी का आखिरी IPL मैच… भावुक विदाई, चेन्नई की हार से माही का क्रिकेट सफर समाप्त?

4. श्रेयस अय्यर की शानदार कप्तानी

SRH vs KKR: श्रेयस अय्यर की कप्तानी को कम आंकना अन्य टीमों के लिए एक बड़ी भूल साबित हुई है। अय्यर की परिस्थितियों को पढ़ने की काबिलियत और गौतम गंभीर की आक्रामक रणनीतियों का मिश्रण KKR को आईपीएल 2024 की शीर्ष टीम बना रहा था। अय्यर ने इससे पहले 2020 में अपनी कप्तानी में दिल्ली कैपिटल्स को फाइनल में पहुंचाया था। इस बार, अय्यर ने अपनी कप्तानी में कोई चूक नहीं की और ट्रॉफी जीतकर ही दम लिया।

SRH vs KKR: अय्यर की नेतृत्व क्षमता और गंभीर की आक्रामक रणनीतियों ने टीम को हर मुकाबले में मजबूत बनाए रखा। अय्यर ने खेल की परिस्थितियों को बखूबी समझा और अपनी टीम को उसी अनुसार रणनीतियाँ अपनाने में मदद की। उनकी सूझबूझ और खिलाड़ियों में आत्मविश्वास जगाने की क्षमता ने KKR को सफल बनाने में अहम भूमिका निभाई।

SRH vs KKR: इस सीजन में अय्यर ने न केवल अपने बल्लेबाजी प्रदर्शन से, बल्कि कप्तानी के हर पहलू में उत्कृष्टता दिखाई। उनकी दृढ़ता और मैदान पर सही निर्णय लेने की क्षमता ने टीम को कई मुश्किल परिस्थितियों से बाहर निकाला। अय्यर और गंभीर की जोड़ी ने मिलकर KKR को चैंपियन बनाया, जिससे यह साबित हो गया कि उनकी नेतृत्व क्षमता और रणनीतियों का कोई तोड़ नहीं है। KKR की इस शानदार सफलता का श्रेय काफी हद तक श्रेयस अय्यर की कुशल कप्तानी को जाता है।

5. स्पिन की जादुई जोड़ी

SRH vs KKR: आईपीएल 2024 में KKR की गेंदबाजी पर नजर डालें तो हर्षित राणा और वैभव अरोड़ा जैसे नए प्रतिभाशाली गेंदबाज उभर कर सामने आए। इन युवा गेंदबाजों ने अपनी शानदार गेंदबाजी से सबको प्रभावित किया। मगर, सुनील नरेन और वरुण चक्रवर्ती की जादुई स्पिन जोड़ी ने कोलकाता को ट्रॉफी तक पहुंचाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई।

SRH vs KKR : वरुण चक्रवर्ती इस सीजन में कोलकाता के लिए सबसे ज्यादा विकेट लेने वाले गेंदबाज रहे, जिन्होंने 21 बल्लेबाजों को पवेलियन भेजा। उनकी सटीक गेंदबाजी और विविधता ने विपक्षी बल्लेबाजों को मुश्किल में डाला और महत्वपूर्ण मौकों पर टीम को सफलता दिलाई। उनके स्पिन जोड़ीदार सुनील नरेन ने 17 विकेट लेकर कई बार KKR को संकट की स्थिति से उबारा। नरेन की अनुभव और चतुराई ने उन्हें टीम का अहम हिस्सा बना दिया।

इन दोनों स्पिनरों के अलावा, हर्षित राणा और वैभव अरोड़ा ने भी बेहतरीन प्रदर्शन किया। उनकी गति और सटीकता ने बल्लेबाजों को परेशान किया और टीम को मजबूती प्रदान की। कुल मिलाकर, KKR की गेंदबाजी इस सीजन में प्रभावशाली रही, जिसने टीम को जीत दिलाने में अहम योगदान दिया और अंततः उन्हें चैंपियन बनने में मदद की।

 

इससे भी पढ़े :- बारिश से खेल बाधित , परिणाम और खिताब किसके पक्ष में जाएगा?

Exit mobile version
Skip to toolbar