Prashant Kishor News: प्रशांत किशोर की चाल से आरजेडी में हलचल, जगदानंद सिंह ने जारी किया पत्र |

Prashant Kishor News: प्रशांत किशोर की चाल से आरजेडी में हलचल, जगदानंद सिंह ने जारी किया पत्र |

Prashant Kishor News: प्रशांत किशोर की सक्रियता से बिहार की राजनीति में हलचल, आरजेडी ने जारी किया पत्र |

Prashant Kishor News: प्रशांत किशोर की चाल से आरजेडी में हलचल, जगदानंद सिंह ने जारी किया पत्र |
Prashant Kishor News: प्रशांत किशोर की चाल से आरजेडी में हलचल, जगदानंद सिंह ने जारी किया पत्र |

Prashant Kishor News: चुनावी रणनीतिकार से नेता बने प्रशांत किशोर के ऐलान के बाद राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) में हलचल मच गई है। कुछ दिन पहले प्रशांत किशोर ने घोषणा की थी कि उनका संगठन जनसुराज जल्द ही एक पार्टी में परिवर्तित होगा। इस नई पार्टी के गठन के लिए प्रशांत किशोर पूरी सक्रियता से काम कर रहे हैं। इस परिप्रेक्ष्य में आरजेडी के प्रदेश अध्यक्ष जगदानंद सिंह ने पार्टी के नेताओं और कार्यकर्ताओं को चेतावनी दी है।

Prashant Kishor News: उन्होंने स्पष्ट किया कि कोई भी नेता या कार्यकर्ता जनसुराज में सदस्य या सहयोगी न बने। जगदानंद सिंह ने जनसुराज को भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) की बी टीम करार दिया है। इस घोषणा के बाद आरजेडी में काफी हलचल है और पार्टी के नेताओं और कार्यकर्ताओं के बीच चर्चाएं तेज हो गई हैं। प्रशांत किशोर की राजनीतिक गतिविधियों और उनके संगठन के बढ़ते प्रभाव के कारण बिहार की राजनीति में नया मोड़ आ सकता है। आरजेडी इस परिस्थिति से निपटने के लिए अपनी रणनीति पर पुनर्विचार कर रही है।

‘जनसुराज को बताया बीजेपी की बी टीम’

Prashant Kishor News: जगदानंद सिंह ने एक पत्र जारी कर कहा है कि हाल के दिनों में विभिन्न जिलों में यह देखा जा रहा है कि राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) के कार्यकर्ता और नेता जनसुराज में सहयोगी और सदस्य बन रहे हैं, जो चिंताजनक है। जगदानंद सिंह ने आगे लिखा है कि जनसुराज एक राजनीतिक पार्टी है जिसके संस्थापक प्रशांत किशोर हैं। उन्होंने इस पार्टी को भारतीय जनता पार्टी और देश के धर्मानुयायियों द्वारा संचालित और वित्तीय रूप से समर्थित बताया है।

Prashant Kishor News: सिंह ने आरजेडी के कार्यकर्ताओं और नेताओं को जनसुराज में शामिल न होने की हिदायत दी है, क्योंकि इससे पार्टी की एकता और संगठनात्मक ढांचे पर असर पड़ सकता है। इस पत्र के माध्यम से उन्होंने पार्टी के सभी सदस्यों को सतर्क रहने और पार्टी के सिद्धांतों के प्रति वफादार बने रहने की अपील की है। इस चेतावनी के बाद आरजेडी में इस मुद्दे पर गंभीर चर्चा शुरू हो गई है और पार्टी अपने कार्यकर्ताओं को एकजुट रखने के प्रयासों में लगी हुई है।

जगनानंद सिंह ने कार्यकर्ताओं को किया आगाह

Prashant Kishor News: आरजेडी के प्रदेश अध्यक्ष ने पार्टी के नेताओं से आग्रह किया है कि वे ऐसे लोगों के बहकावे में न आएं जिनकी मंशा राष्ट्रीय जनता दल को कमजोर करने और बीजेपी की शक्ति को बढ़ावा देने की है। उन्होंने कहा कि जिन साथियों को लालू प्रसाद यादव का सामाजिक न्याय और सांप्रदायिक सौहार्द एवं बाबा साहब डॉक्टर भीमराव अंबेडकर, डॉ. राम मनोहर लोहिया, महात्मा गांधी, ज्योतिबा फुले, जननायक कर्पूरी ठाकुर, लोकनायक जयप्रकाश नारायण के विचारों से वास्ता है, वे दल विरोधी कार्यों में शामिल न हों।

Prashant Kishor News: प्रशांत किशोर की चाल से आरजेडी में हलचल, जगदानंद सिंह ने जारी किया पत्र |
Prashant Kishor News: प्रशांत किशोर की चाल से आरजेडी में हलचल, जगदानंद सिंह ने जारी किया पत्र |

Prashant Kishor News: प्रदेश अध्यक्ष ने स्पष्ट किया कि अगर कोई पार्टी नेता या कार्यकर्ता दल विरोधी गतिविधियों में लिप्त पाया गया, तो उसके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी। उन्होंने सभी से पार्टी की एकता और सिद्धांतों के प्रति वफादार रहने की अपील की, ताकि राष्ट्रीय जनता दल मजबूत रह सके और अपने उद्देश्यों की पूर्ति कर सके। इस संदेश के माध्यम से उन्होंने पार्टी के सभी सदस्यों को सचेत और एकजुट रहने का आह्वान किया है।

जनसुराज से जुड़ रहे हैं भारी संख्या में लोग 

Prashant Kishor News: पार्टी बनाने के संदर्भ में प्रशांत किशोर ने स्पष्ट किया है कि पार्टी के संस्थापक सदस्य के रूप में लोग शामिल होंगे। इसके साथ ही, सूत्र बता रहे हैं कि विभिन्न राजनीतिक दलों से बहुत से लोग प्रशांत किशोर के साथ जुड़ रहे हैं, जो उनकी मुहिम को बढ़ाता हुआ देखा जा रहा है। इस परिस्थिति को देखते हुए अब राजद ने एक पत्र जारी कर दिया है, जिसमें प्रशांत किशोर की राजनीतिक गतिविधियों पर ध्यान दिया गया है।

RJD के पत्र में कार्यकर्ताओं को चेतावनी

Prashant Kishor News: मुख्य व्यापारिक सलाहकार प्रशांत किशोर पांडे ने एक कथित पत्र में स्पष्टता से दावा किया है कि उनकी पार्टी जन सुराज भाजपा द्वारा वित्तपोषण की जाती है और इसे भाजपा की टीम बताया जाना चाहिए। इस पत्र के माध्यम से उन्होंने भाजपा के टीम बी की विवरण भी दिया है, जिसमें समाजवादी विचारधारा के साथ एक समर्थन भी शामिल है। इस विवादास्पद बयान के परिणामस्वरूप, राजद ने प्रशांत किशोर के खिलाफ एक सख्त रुख अपनाया है और उनके खिलाफ विचार व्यक्त किया है।

Prashant Kishor News: कथित पत्र पर कड़ी आपत्ति जताते हुए जन सुराज ने एक्स पर जवाब दिया और कड़ी आलोचना की। राज्य विधानसभा में सबसे बड़ी पार्टी होने के बावजूद राजनीतिक बेचैनी के बीच, जन सुराज ने इस पत्र को एक भ्रांति बताया है और उसमें भाजपा और उसके नेताओं के खिलाफ रची गई साजिश का आरोप लगाया है। उन्होंने कहा कि इस पत्र के माध्यम से विपक्ष की नकली खबरें फैलाई जा रही हैं जो सिर्फ उन्हें बदनाम करने के लिए हैं।

जन सुराज ने अपने जवाब में कहा कि वे इस पत्र का पूरा खंडन करते हैं और इसे असत्य और दोगलापन की बुनियाद पर रचा गया मानते हैं। उन्होंने अपनी पार्टी के सदस्यों से अपील की कि वे इस तरह की दुर्भावनाओं का सामना करते हुए एकजुट रहें और सच्चाई की रक्षा के लिए उनके साथ खड़े रहें।

https://dailyprintnews.com/prashant-kishor-news-2/

 

Prashant Kishor News: मान्यता प्राप्त बिहार आरजेडी के नेता जगदानंद सिंह द्वारा एक कथित पत्र ने राज्य में एक और राजनीतिक तूफान उत्पन्न कर दिया है। इस पत्र में उन्होंने प्रमुख राजनीतिक रणनीतिकार से नेता बने प्रशांत किशोर के बारे में कठोर आलोचना की है। सिंह ने इस पत्र में यह भी कहा है कि प्रशांत किशोर ने राजनीतिक विचारधारा के खिलाफ कार्रवाई की है और उनके कार्य में एक सामाजिक संकट पैदा कर दिया है। उन्होंने विशेष रूप से इस बात पर जोर दिया है कि यह विपक्षी दलों की षडयंत्रकारी रणनीतियों का परिणाम है, जिनका लक्ष्य उनके राजनीतिक विरोधी को कमजोर करना है। इस पत्र के प्रसार के बाद सियासी दलों में गहरी चर्चा और विवाद उभरा है, जिससे बिहारी राजनीति में नए मोड़ आए हैं।

इससे भी पढ़े :-


Discover more from DPN

Subscribe to get the latest posts sent to your email.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

WP Twitter Auto Publish Powered By : XYZScripts.com

Discover more from DPN

Subscribe now to keep reading and get access to the full archive.

Continue reading