Site icon DPN

Prajwal Revanna Case: जेल से चुनाव परिणाम देखेगा प्रज्वल रेवन्ना, कोर्ट ने 6 जून तक SIT हिरासत में भेजा |

Prajwal Revanna Case: कर्नाटक के हासन के सांसद प्रज्वल रेवन्ना (prajwal revanna) को एयरपोर्ट पर एसआईटी ने किया गिरफ्तार, वीडियो मैसेज में दी थी 31 मई को भारत लौटने की सूचना |

Prajwal Revanna Case: जेल से चुनाव परिणाम देखेगा प्रज्वल रेवन्ना (prajwal revanna), कोर्ट ने 6 जून तक SIT हिरासत में भेजा |

Prajwal Revanna Case: जेडीएस के निलंबित सांसद प्रज्वल रेवन्ना (prajwal revanna) को शुक्रवार, 31 मई को कर्नाटक की एक अदालत ने अश्लील वीडियो मामले की जांच के तहत छह दिन यानी 6 जून तक एसआईटी की हिरासत में भेज दिया। यह फैसला उस समय आया जब रेवन्ना को भारत लौटने पर एयरपोर्ट से ही गिरफ्तार कर लिया गया था। उन्होंने एक वीडियो संदेश के माध्यम से पहले ही सूचित किया था कि वे 31 मई को भारत लौटेंगे।

Prajwal Revanna Case:  रेवन्ना के खिलाफ यह कार्रवाई तब की गई जब एक कथित अश्लील वीडियो का मामला सामने आया, जिसमें उनका नाम जुड़ा हुआ था। इस मामले की जांच के लिए गठित एसआईटी को अदालत ने छह दिनों की हिरासत की मंजूरी दी है ताकि वे मामले से जुड़े तथ्यों की गहराई से जांच कर सकें और आवश्यक पूछताछ कर सकें। इस दौरान, रेवन्ना को एसआईटी के अधिकारियों के साथ सहयोग करना होगा और सभी आवश्यक सवालों के जवाब देने होंगे।

Prajwal Revanna Case: इस घटना ने राजनीतिक और सामाजिक दोनों ही क्षेत्रों में हलचल मचा दी है, और इस मामले की जांच पर सभी की नजरें टिकी हुई हैं। रेवन्ना की हिरासत से जुड़े आगामी अदालती और जांच के परिणाम का बेसब्री से इंतजार किया जा रहा है।

Prajwal Revanna Case:  केम्पेगौड़ा अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डे पर उतरने के बाद, प्रज्वल रेवन्ना (prajwal revanna) को बेंगलुरु के सीआईडी कार्यालय ले जाया गया। उनके घर में काम करने वाली एक महिला द्वारा लगाए गए यौन उत्पीड़न और आपराधिक धमकी के आरोपों की जांच विशेष जांच दल (एसआईटी) कर रही है। रेवन्ना, जो राजनयिक पासपोर्ट पर देश छोड़कर करीब एक महीने पहले बर्लिन, जर्मनी गए थे, अब भारत लौट आए हैं। आज सुबह बेंगलुरु हवाई अड्डे पर उतरते ही उन्हें तुरंत हिरासत में ले लिया गया।

इससे भी पढ़े :- मानसून की प्रारंभिक एंट्री,वैज्ञानिकों का रहस्य उजागर, जानें वजह |

Prajwal Revanna Case: कर्नाटक सरकार की एसआईटी ने हवाई अड्डे पर पहुंचते ही रेवन्ना को गिरफ्तार कर लिया। इस गिरफ्तारी के पीछे के आरोपों की गंभीरता को देखते हुए, एसआईटी मामले की गहराई से जांच कर रही है। रेवन्ना की गिरफ्तारी ने राजनीतिक हलकों में हड़कंप मचा दिया है, और इस मामले पर व्यापक जनचर्चा हो रही है। एसआईटी द्वारा की जा रही जांच में रेवन्ना से गहन पूछताछ की जाएगी ताकि सच सामने आ सके। इस घटनाक्रम ने रेवन्ना की राजनीतिक स्थिति को भी गंभीर रूप से प्रभावित किया है। उनकी हिरासत से जुड़े आगामी कानूनी और जांच संबंधी परिणामों का सभी को बेसब्री से इंतजार है।

एयरपोर्ट पर महिला पुलिस दल भी था मौजूद

Prajwal Revanna Case: रेवन्ना अधिकारियों के समन से बचते रहे और लगभग एक महीने तक देश से बाहर रहे। 33 वर्षीय प्रज्वल रेवन्ना (prajwal revanna), जेडीएस सुप्रीमो और पूर्व प्रधानमंत्री एचडी देवेगौड़ा के पोते हैं। लोकसभा चुनाव 2024 के लिए कर्नाटक की हासन सीट से रेवन्ना बीजेपी-जेडीएस गठबंधन के उम्मीदवार भी हैं। एसआईटी ने उनके खिलाफ वारंट को तामील करने के लिए एक महिला पुलिस दल को तैनात किया और एक संदेश भेजकर उनकी गिरफ्तारी सुनिश्चित की।

Prajwal Revanna Case: एसआईटी के सूत्रों के अनुसार, म्यूनिख से विमान से उतरते ही खाकी वर्दी में महिला पुलिसकर्मियों ने रेवन्ना का स्वागत किया और उन्हें हिरासत में लिया। रेवन्ना की गिरफ्तारी के पीछे यौन उत्पीड़न और आपराधिक धमकी के गंभीर आरोप हैं, जो उनके घर में काम करने वाली एक महिला ने लगाए हैं। एसआईटी द्वारा उनकी गहन जांच की जा रही है ताकि सभी तथ्यों को सामने लाया जा सके। रेवन्ना की गिरफ्तारी ने राजनीतिक हलकों में हलचल मचा दी है, विशेष रूप से क्योंकि वे एक महत्वपूर्ण चुनावी उम्मीदवार हैं। उनकी कानूनी और राजनीतिक स्थिति पर इस मामले के परिणाम का सभी को बेसब्री से इंतजार है।

इससे भी पढ़े :- सेहत ही नहीं, आपकी गरीबी भी बढ़ा रहा है!

Prajwal Revanna Case: इससे पहले, एसआईटी ने इस मामले में दो प्रमुख संदिग्धों, नवीन गौड़ा और चेतन गौड़ा को गिरफ्तार किया था। पुलिस सूत्रों ने न्यूज एजेंसी एएनआई को बताया कि इन संदिग्धों को हाई कोर्ट में अग्रिम जमानत लेने के दौरान गिरफ्तार किया गया था। चेतन गौड़ा और नवीन गौड़ा पर आरोप है कि उन्होंने रेवन्ना के महिलाओं के साथ कथित यौन उत्पीड़न के वीडियो वाले पेन ड्राइव वितरित किए थे।

Prajwal Revanna Case: ये गिरफ्तारियाँ मामले की गंभीरता को और भी स्पष्ट करती हैं, क्योंकि एसआईटी आरोपों की गहराई से जांच कर रही है। नवीन गौड़ा और चेतन गौड़ा की गिरफ्तारी से मामले में नए मोड़ आए हैं और जांच के दायरे को व्यापक बना दिया है। इन दोनों पर यह आरोप है कि वे रेवन्ना के खिलाफ सबूत फैलाने में शामिल थे, जिससे मामले की संवेदनशीलता और बढ़ गई है। एसआईटी अब इन संदिग्धों से पूछताछ कर रही है ताकि मामले की सच्चाई सामने आ सके और आरोपों की पुष्टि हो सके। इस मामले की जांच से जुड़े आगामी अदालती और कानूनी घटनाक्रम पर सभी की नजरें टिकी हुई हैं।

 

इससे भी पढ़े :- भविष्यवाणी , नए सरकार बनते ही भारत में इन पांच बदलावों की दिशा |

Exit mobile version
Skip to toolbar