Now mobile numbers will be 13 digits : 21 साल बाद बड़ा बदलाव: मोबाइल नंबर में आएगा नया बदलाव, अब 10 से अधिक अंक दिखेंगे

Now mobile numbers will be 13 digits

Now mobile numbers will be 13 digits : TRAI का बड़ा निर्णय , 21 साल बाद नंबरिंग प्लान में बदलाव, मोबाइल नंबर हो सकते हैं 11 से 13 अंकों के |

Now mobile numbers will be 13 digits
Now mobile numbers will be 13 digits

Today Breaking News टेलीकॉम रेगुलेटरी अथॉरिटी ऑफ इंडिया (TRAI) समय-समय पर महत्वपूर्ण निर्णय लेती रही है। अब TRAI ने एक और बड़ा फैसला लिया है। 5G नेटवर्क के आगमन के बाद मोबाइल नंबरिंग में लगातार समस्याएं सामने आ रही हैं। इन समस्याओं को देखते हुए TRAI ने नेशनल नंबरिंग प्लान को संशोधित करने का निर्णय लिया है। यह कदम इसलिए उठाया जा रहा है ताकि मोबाइल नंबरिंग की वर्तमान समस्याओं का समाधान हो सके और भविष्य में किसी भी तरह की अव्यवस्था से बचा जा सके।

Now mobile numbers will be 13 digits : पिछली बार ऐसा निर्णय 2003 में लिया गया था, जब मोबाइल संख्याओं के बढ़ते उपयोग और मांग को देखते हुए नंबरिंग प्लान में बदलाव किया गया था। अब, 21 साल बाद, एक बार फिर से नंबरिंग प्लान में बदलाव की आवश्यकता महसूस की जा रही है। TRAI का यह निर्णय सुनिश्चित करेगा कि नए 5G नेटवर्क के साथ मोबाइल नंबरिंग सिस्टम सुचारू रूप से काम करे और उपभोक्ताओं को किसी प्रकार की असुविधा का सामना न करना पड़े। यह बदलाव मोबाइल संख्याओं को 11 से 13 अंकों तक विस्तारित कर सकता है, जिससे नंबरिंग प्लान में समग्र सुधार होगा।

इससे भी पढ़े :- क्या नीतीश कुमार ने प्रधानमंत्री मोदी के कर्ज को चुका दिया? इस बार 2019 के जैसा खेला नहीं होगा |

Today Breaking News सब्सक्राइबर्स की बढ़ती संख्या के कारण मोबाइल कंपनियों के सामने नए चुनौतियाँ उत्पन्न हो रही हैं। सेवाओं की निरंतर बढ़ती मांग को पूरा करने के लिए नए नंबरिंग सिस्टम की आवश्यकता महसूस की जा रही है। इसी परिप्रेक्ष्य में, नेशनल नंबरिंग प्लान को संशोधित करने पर विचार किया जा रहा है।

Now mobile numbers will be 13 digits : नेशनल नंबरिंग प्लान टेलीकम्युनिकेशन आइडेंटिफायर की पहचान करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है, जो संचार सेवाओं के प्रबंधन और उनके सुचारू संचालन के लिए आवश्यक है। यह योजना सुनिश्चित करती है कि मोबाइल और अन्य संचार सेवाओं के उपयोगकर्ताओं को किसी प्रकार की असुविधा का सामना न करना पड़े और सभी को एक संगठित और सुव्यवस्थित सेवा मिल सके।

web Service
web Service

अब, मोबाइल उपयोगकर्ताओं की संख्या में लगातार हो रही वृद्धि को ध्यान में रखते हुए, यह जरूरी हो गया है कि नंबरिंग प्लान में बदलाव किए जाएं। इससे न केवल वर्तमान आवश्यकताओं को पूरा किया जा सकेगा, बल्कि भविष्य में भी किसी प्रकार की अव्यवस्था से बचा जा सकेगा। ट्राई का यह कदम एक सुव्यवस्थित और प्रभावी संचार प्रणाली सुनिश्चित करने की दिशा में एक महत्वपूर्ण प्रयास है, जो भविष्य की मांगों को भी पूरा करने में सक्षम होगा।

अभी क्या है चैलेंज ?

Now mobile numbers will be 13 digits : साल 2003 में, देशभर में 750 मिलियन टेलीफोन कनेक्शन के लिए नंबरिंग रिसोर्स अनुमानित थे। लेकिन अब, 21 साल बाद, यह रिसोर्स रिस्क के दायरे में आ गया है। नेटवर्क प्रोवाइडर्स द्वारा सेवा में लगातार बदलाव की वजह से टेलीफोन कनेक्शनों की संख्या भी तेजी से बढ़ रही है। भारत में टेलीफोन सब्सक्राइबर्स की संख्या भी लगातार बदल रही है और 31 मार्च तक यह लगभग 85 प्रतिशत तक बढ़ गई है।

इससे भी पढ़े :- AI शिक्षक , पहली बार भारत में स्कूलों में AI टीचर, जानिए कैसे होगी पढ़ाई |

Now mobile numbers will be 13 digits : इससे नंबरिंग रिसोर्स की मांग में वृद्धि हो रही है जो संचार सेवाओं के लिए महत्वपूर्ण है। इस समस्या को समाधान के लिए, नेशनल नंबरिंग प्लान और अन्य नए चिंतनशील प्रक्रियाओं का अध्ययन किया जा रहा है। यह सुनिश्चित करेगा कि संचार क्षेत्र में नंबरिंग सिस्टम निरंतर सुधारित हो और उपयोगकर्ताओं को उचित सेवा मिले।

Now mobile numbers will be 13 digits
Now mobile numbers will be 13 digits

Now mobile numbers will be 13 digits : ट्राई ने इसे लेकर अपनी वेबसाइट को भी अपडेट कर दिया है और सभी से इसे लेकर सलाह मांगी है। लंबे समय बाद नेशनल नंबरिंग प्लान में बदलाव किया जा रहा है और लिखित में भी इस पर सलाह दी जा सकती है। एक रिपोर्ट में दावा किया गया है कि अब मोबाइल नंबर की संख्या 10 से बढ़ा दी जा सकती है। इसे 11 से लेकर 13 नंबर तक किया जा सकता है जो यूजर्स की पहचान करने में अहम मदद कर सकती है।

Now mobile numbers will be 13 digits : यह बदलाव नेशनल नंबरिंग प्लान के लिए महत्वपूर्ण है जो संचार सेवाओं के प्रबंधन और सुचारू संचालन के लिए अत्यंत जरूरी है। इससे नंबरिंग सिस्टम में सुधार होगा और उपयोगकर्ताओं को उचित सेवा मिलने में मदद मिलेगी। ट्राई के इस निर्णय से संचार क्षेत्र में सुधार और उपयोगकर्ताओं के अनुकूल सेवा की दिशा में एक प्रयास की ओर एक महत्वपूर्ण कदम है।

 

इससे भी पढ़े :- सरकार के गठन के बाद पहली बार बोले नरेंद्र मोदी- 9 जून को शपथ ग्रहण करूंगा |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *