Lok Sabha Elections 2024: “समाजवादी की जनसभा पर सैम पित्रोदा का अद्वितीय विचार: प्रियंका गांधी का खुलासा”

Lok Sabha Elections 2024

Lok Sabha Elections 2024: कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने सैम पित्रोदा के बयान का जवाब दिया है। उन्होंने साफ़ किया कि राहुल गांधी अमेठी से चुनाव नहीं लड़ रहे हैं। इसके बावजूद, वे कांग्रेस के चुनाव प्रचार में सक्रिय रहेंगी और पार्टी की उन्नति के लिए प्रयासरत रहेंगी।

Lok Sabha Elections 2024: कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने सैम पित्रोदा के बयान पर प्रतिक्रिया दी है। इस दौरान उन्होंने राहुल गांधी के अमेठी से चुनाव नहीं लड़ने को लेकर भी बयान दिया।

Lok Sabha Elections 2024
Lok Sabha Elections 2024

Lok Sabha Elections 2024: प्रियंका गांधी सैम पित्रोदा की टिप्पणी पर जवाब देते हुए कहती हैं कि लोकसभा चुनाव के तीन चरणों की वोटिंग हो चुकी है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सैम पित्रोदा की विवादित टिप्पणी को लेकर राहुल गांधी पर निशाना साधा था, लेकिन बुधवार (8 मई) को कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने पीएम मोदी पर पलटवार किया। इस दौरान प्रियंका गांधी ने अमेठी से कांग्रेस उम्मीदवार किशोरी लाल शर्मा को लेकर भी बयान दिया है।

अमेठी से राहुल गांधी के चुनाव लड़ने पर क्या बोलीं?

Lok Sabha Elections 2024: एनडीटीवी की रिपोर्ट के मुताबिक कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने कहा, “राहुल गांधी रायबरेली में चुनाव लड़ रहे हैं क्योंकि यह मेरी माता (सोनिया गांधी) का कार्यक्षेत्र रहा है। अमेठी से किशोरी लाल शर्मा बहुत अच्छे उम्मीदवार हैं, जिन्होंने 40 सालों से सिर्फ़ अमेठी की जनता की सेवा ही की है। मुझे यह बहुत अच्छा लग रहा है कि मैं उनके लिए प्रचार कर रही हूं।”

Lok Sabha Elections 2024
Lok Sabha Elections 2024

Lok Sabha Elections 2024: प्रियंका गांधी ने कहा, “किशोरी लाल शर्मा 1999 से अमेठी में मेरे साथ ही काम किया है। मैंने चुनाव का संचालन और चुनाव की बारीकियां उनसे ही सीखी है। अगर हम सारे चुनाव लड़ें तो फिर लड़वाने के लिए भी तो कोई चाहिए न। बीजेपी को हर चीज का फिजूल का मुद्दा बनना है।”

इससे भी पढ़े :- सैम पित्रोदा ने दिया इस्तीफा,नस्लीय बयान पर मचा बवाल’नस्लीय बयान पर मचा बवाल’ |

पीएम मोदी के अमेरिका वाले बयान पर क्या बोलीं?

Lok Sabha Elections 2024: प्रियंका गांधी ने पीएम मोदी के सैम पित्रोदा की विवादित टिप्पणी को लेकर राहुल गांधी पर निशाना साधने वाले बयान पर बोला। उन्होंने कहा, “कोई कहीं दूर अमेरिका में बैठा है… उसने कोई उल्टी सीधी बात कह दी… उसी पर ऐसा चर्चा कर दिए जैसे मानो पता नहीं कौन कर रहा है।”

web development
web development

Lok Sabha Elections 2024: चुनाव प्रचार के दौरान पाकिस्तान के जिक्र पर कांग्रेस महासचिव ने बोला, “चुनाव हिंदुस्तान में है और पीएम मोदी पाकिस्तान की बात कर रहे हैं।” इस बयान से प्रियंका गांधी ने पीएम के चुनावी धाराओं को लक्ष्य बनाया और उनकी राजनीतिक रणनीतियों पर सवाल उठाया।पीएम मोदी की तरफ से यह बयान चुनाव प्रचार में एक महत्वपूर्ण विषय बना, जिससे सामाजिक और राजनीतिक विवाद उत्पन्न हो गए। इससे पहले भी कई बार पाकिस्तान के साथ संबंधित मुद्दे चुनावी मुद्दों का हिस्सा बन चुके हैं, और इस बार भी यह विवाद उग्र हो गया है।

प्रियंका गांधी का बयान इस संदेश के रूप में समझा जा सकता है कि कांग्रेस पार्टी पाकिस्तान के साथ संबंधित विवादित मुद्दों पर ध्यान केंद्रित करने के बजाय देश के विकास और प्रगति पर बल देने की कोशिश कर रही है। उनका बयान भारतीय राजनीति में नई रंगत भर सकता है और चुनावी माहौल को और भी तनावपूर्ण बना सकता है।

Lok Sabha Elections 2024
Lok Sabha Elections 2024

Lok Sabha Elections 2024: सैम पित्रोदा की टिप्पणी ने एक विवाद उत्पन्न किया है, जिसमें उन्होंने कहा कि पूर्वी भारत के लोग चीनी और दक्षिण भारतीय अफ्रीकी नागरिकों जैसे दिखते हैं। इसके परिणामस्वरूप, बीजेपी ने इसे चुनावी मुद्दा बना लिया है। प्रधानमंत्री मोदी ने इसे नस्ली बताते हुए कहा कि लोग त्वचा के रंग के आधार पर देशवासियों का अपमान करने के प्रयास को बर्दाश्त नहीं करेंगे।

Lok Sabha Elections 2024: इस बयान के परिणामस्वरूप, बहुत से लोग विवाद में आ गए हैं। कांग्रेस ने सैम पित्रोदा के बयान का मुद्दा बनाते हुए बीजेपी के खिलाफ आपत्ति जताई है। उन्होंने कहा कि यह बयान देश के भिन्न-भिन्न समुदायों को एक-दूसरे के खिलाफ भड़काने का प्रयास है।पीएम मोदी ने इस बयान का सख्त खंडन किया है और कहा है कि लोगों को ऐसे विवादास्पद बयानों को सहने की आदत नहीं होनी चाहिए। वह ने यह भी जताया है कि भारतीय समाज एकता और समरसता की भावना से जुड़ा हुआ है और ऐसे विवादों से दूरी बनाए रखने का प्रयास करना चाहिए।

web development
web development

समाज में इस विवाद पर विचार करते हुए, कुछ लोग इसे सियासी हिंसा के बढ़ते हुए संकेत के रूप में देख रहे हैं, जो देश के एकता और सहयोग को कमजोर कर सकता है। इसके विपरीत, अन्य लोग इसे स्वतंत्र विचार के अधिकार का प्रमाण मान रहे हैं। चाहे जैसा भी हो, इस विवाद के दौरान समय की मांग की जा रही है, ताकि सभी संभावित पहलुओं को समझा जा सके।

 

इससे भी पढ़े :- ‘दम है तो दोनों भाई-बहन..’ – स्मृति ईरानी की राहुल-प्रियंका गांधी को चुनौती |

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *