Expert opinion: कमरे में एसी का तापमान कितना होना चाहिए? बिजली की खपत कम करने के उपाय |

Expert opinion

Expert opinion: गर्मी बढ़ने के साथ घरों में AC की मांग बढ़ रही है। जानिए, किस तापमान पर एसी चलाने से बिजली की बचत होती है |

Expert opinion
Expert opinion

Expert opinion: देशभर में भीषण गर्मी का प्रकोप बढ़ता जा रहा है। दिल्ली-एनसीआर से लेकर राजस्थान, पंजाब, हरियाणा, उत्तर प्रदेश, मध्यप्रदेश और बिहार जैसे राज्यों में तापमान 45 से 48 डिग्री सेल्सियस तक पहुंच रहा है। इस तपती गर्मी से राहत पाने के लिए अधिकतर लोग अपने घरों में एयर कंडीशनर (एसी) का उपयोग कर रहे हैं। लेकिन क्या आप जानते हैं कि AC का सही तापमान कितना होना चाहिए जिससे न केवल आपको ठंडक मिले, बल्कि बिजली की खपत भी कम हो?

विशेषज्ञों के अनुसार, AC का तापमान 24 से 26 डिग्री सेल्सियस के बीच रखना सबसे उपयुक्त है। इस तापमान पर AC न केवल ऊर्जा की बचत करता है, बल्कि पर्यावरण के लिए भी बेहतर होता है। इससे AC के कम्प्रेसर पर कम दबाव पड़ता है, जिससे उसकी कार्यक्षमता बढ़ती है और बिजली की खपत कम होती है। इसके अलावा, इस तापमान पर आपका स्वास्थ्य भी सुरक्षित रहता है, क्योंकि अत्यधिक ठंडक से सर्दी-खांसी जैसी समस्याएं हो सकती हैं। इसलिए, जब भी आप एसी का उपयोग करें, तो उसका तापमान 24-26 डिग्री सेल्सियस पर सेट करना याद रखें। इससे न केवल आपका बिजली बिल कम होगा, बल्कि पर्यावरण संरक्षण में भी योगदान मिलेगा।

AC सी चलाने का सही तरीका

Expert opinion: गर्मी बढ़ने के साथ ही घरों में एसी का उपयोग भी तेजी से बढ़ रहा है। अक्सर लोग तपती गर्मी से राहत पाने के लिए AC का तापमान कम करके 18 डिग्री सेल्सियस तक सेट कर देते हैं, जिससे कमरे का तापमान जल्दी कम हो जाता है। हालांकि, 18 डिग्री सेल्सियस पर AC चलाने से बिजली की खपत काफी बढ़ जाती है और बिजली बिल भी ज्यादा आता है।

web development
web development

विशेषज्ञों का कहना है कि बिजली की खपत कम करने के लिए AC का तापमान 24 डिग्री सेल्सियस पर सेट करना सबसे बेहतर होता है। इस तापमान पर एसी चलाने से न केवल ऊर्जा की बचत होती है, बल्कि बिजली बिल भी नियंत्रित रहता है। 24 डिग्री सेल्सियस पर AC के कम्प्रेसर पर कम दबाव पड़ता है, जिससे उसकी कार्यक्षमता बढ़ती है और लंबे समय तक बेहतर प्रदर्शन करता है। इसके अलावा, इस तापमान पर आपका स्वास्थ्य भी सुरक्षित रहता है, क्योंकि अत्यधिक ठंडक से सर्दी-खांसी जैसी समस्याओं का खतरा कम होता है।

इसलिए, AC का सही उपयोग करने और बिजली की खपत कम करने के लिए इसे 24 डिग्री सेल्सियस पर सेट करना एक समझदारी भरा कदम है।

इससे भी पढ़े :- अडानी एंटरप्राइजेज को बीएसई सेंसेक्स में शामिल किया जा सकता है, स्टॉक में 8% की उछाल |

ऊर्जा मंत्रालय

Expert opinion: भारत सरकार का ऊर्जा मंत्रालय भी लोगों को ऊर्जा बचत के प्रति जागरूक करने का कार्य कर रहा है। सरकार का सुझाव है कि बिजली की खपत कम करने के लिए AC का तापमान 24 डिग्री सेल्सियस पर सेट किया जाए। ऊर्जा मंत्रालय के अनुसार, यदि आप अपने AC को 24 डिग्री सेल्सियस पर चलाते हैं, तो आप गर्मी के एक सीजन में बिजली बिल में लगभग 4000-5000 रुपये की बचत कर सकते हैं।

Expert opinion
Expert opinion

Expert opinion: AC का तापमान केवल एक डिग्री बढ़ाने से बिजली की खपत में लगभग 6 प्रतिशत की कमी आती है। इस प्रकार, यदि आप एसी का तापमान 24 डिग्री सेल्सियस पर रखते हैं, तो आप अपनी बिजली की खपत में लगभग 18 प्रतिशत तक की कमी कर सकते हैं। यह न केवल आपके बिजली बिल को कम करने में मदद करता है, बल्कि ऊर्जा संसाधनों की बचत में भी महत्वपूर्ण योगदान देता है।

इसलिए, सरकार द्वारा सुझाए गए इस उपाय को अपनाकर आप आर्थिक रूप से लाभान्वित हो सकते हैं और पर्यावरण संरक्षण में भी सहयोग कर सकते हैं। एसी का तापमान 24 डिग्री सेल्सियस पर सेट करना एक सरल और प्रभावी तरीका है, जिससे आप ऊर्जा की बचत कर सकते हैं और अपने मासिक खर्चों को नियंत्रित कर सकते हैं।

AC के कम तापमान से हेल्थ को नुकसान

एक्सपर्ट के मुताबिक, यदि आप अपने कमरे का तापमान 23 डिग्री सेल्सियस से कम रखते हैं, तो यह स्वास्थ्य के लिए हानिकारक हो सकता है। जानकारी के अनुसार, कम तापमान में सोने से सांस संबंधी समस्याएं उत्पन्न होना आम बात है। दरअसल, तापमान कम रखने पर AC  कमरे की सारी नमी सोख लेता है, जिससे स्किन समस्याएं भी हो सकती हैं।

Expert opinion: इसके अलावा, बरसात के मौसम में संक्रमण का खतरा बढ़ जाता है, इसलिए इस स्थिति में हाइजीन के साथ-साथ AC के तापमान का ध्यान रखना आवश्यक हो जाता है। कम तापमान पर AC चलाने से नमी की कमी के कारण त्वचा शुष्क हो जाती है, जिससे खुजली, रूखापन और अन्य स्किन समस्याएं हो सकती हैं।

web Service
web Service

Expert opinion: संक्रमण के खतरे को कम करने और स्वस्थ रहने के लिए AC का तापमान उचित स्तर पर सेट करना महत्वपूर्ण है। विशेषज्ञों की सलाह है कि AC का तापमान 24-26 डिग्री सेल्सियस के बीच रखा जाए, ताकि स्वास्थ्य संबंधी समस्याओं से बचा जा सके और आरामदायक वातावरण बना रहे। इस प्रकार, अपने और अपने परिवार के स्वास्थ्य को सुरक्षित रखने के लिए AC का तापमान सही तरीके से सेट करना आवश्यक है।

AC नुकसानदायक

Expert opinion: एक्सपर्ट हमेशा सलाह देते हैं कि लगातार एसी में रहना सेहत के लिए सही नहीं है। लंबे समय तक AC में रहने से शरीर में कई तरह के बदलाव होते हैं, जो स्वास्थ्य पर नकारात्मक प्रभाव डाल सकते हैं।

Expert opinion: लगातार AC में रहने से शरीर की प्राकृतिक नमी खत्म हो जाती है, जिससे त्वचा शुष्क और खुजलीदार हो सकती है। इसके अलावा, एसी हवा में मौजूद बैक्टीरिया और धूल के कणों को भी कमरे में फैला सकता है, जिससे इंफेक्शन का खतरा बढ़ जाता है।

Expert opinion: AC की ठंडी हवा से सांस की नलियों में सूजन हो सकती है, जिससे सर्दी और जुखाम की संभावना बढ़ जाती है। विशेष रूप से बच्चों और बुजुर्गों में यह समस्या अधिक देखने को मिलती है। AC का तापमान कम रखने पर शरीर को बार-बार तापमान के बदलाव का सामना करना पड़ता है, जिससे इम्यून सिस्टम कमजोर हो सकता है और इंफेक्शन की संभावना बढ़ जाती है।

Expert opinion
Expert opinion

इसलिए, विशेषज्ञों की सलाह है कि AC का उपयोग सीमित समय के लिए और उचित तापमान पर किया जाए। इसके अलावा, बीच-बीच में ताजगी भरी हवा के लिए खिड़कियाँ खोलना भी महत्वपूर्ण है। यह न केवल स्वास्थ्य को बेहतर बनाए रखेगा, बल्कि ऊर्जा की बचत में भी मदद करेगा।

 

इससे भी पढ़े :- मेरे धैर्य की परीक्षा मत लो… जल्द भारत लौटो , प्रज्वल रेवन्ना को देवेगौड़ा की चेतावनी |

10 thoughts on “Expert opinion: कमरे में एसी का तापमान कितना होना चाहिए? बिजली की खपत कम करने के उपाय |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *