Bihar Job: बिहार में नौकरी की बौछार, पंचायती राज विभाग द्वारा 15 हजार से अधिक पदों पर भर्ती का ऐलान |

Bihar Job

Bihar Job: बिहार ,  4351 स्थायी और 11,259 संविदा पदों पर पंचायती राज विभाग की बड़ी भर्ती, सरकार का पंद्रह हजार से अधिक पदों पर नियुक्ति करने का ऐलान |

Bihar Job
Bihar Job

Today Breaking News, लोकसभा चुनाव और आदर्श आचार संहिता के खत्म होने के बाद बिहार में नौकरियों का अवसर बढ़ गया है। बिहार सरकार का पंचायती राज विभाग पंद्रह हजार से अधिक पदों पर भर्ती करेगा। इस खबर को विभाग के मंत्री केदार गुप्ता ने शुक्रवार (07 मई) को जारी किया। उन्होंने बताया कि ये नियुक्तियां विभिन्न पदों पर होंगी, जैसे कि ग्राम सेवक, सहायक शिक्षक, और अन्य संबंधित पद। यह नौकरियां बिहार के विकास में महत्वपूर्ण भूमिका निभाने वाली हैं, साथ ही रोजगार के अवसरों को भी बढ़ावा देंगी। इससे नौजवानों को रोजगार के लिए नई उम्मीदें मिलेंगी और प्रदेश की आर्थिक स्थिति में सुधार होगा।

4351 स्थाई पदों पर होगी नियुक्ति

Today Breaking News, मंत्री केदार गुप्ता ने बताया कि पंचायती राज विभाग में 4351 स्थायी पदों पर जबकि 11,259 संविदा पदों पर नियुक्ति होगी। विभाग ने कुल 15,610 पदों पर भर्ती की घोषणा की है। इस भर्ती में स्थायी पदों के लिए 112 पंचायत राज पदाधिकारी, 28 अंकेक्षण के पद, 3525 पंचायत सचिव, 504 निम्न वर्गीय लिपिक (क्षेत्रीय स्थापना), 01 निम्न वर्गीय लिपिक (मुख्यालय स्थापना), 05 कार्यालय परिचारी, 104 जिला परिषद कनीय अभियंता, और 72 जिला परिषद में निम्न वर्गीय लिपिक के पदों पर नियुक्ति होगी। यह नियुक्तियां प्रदेश के विकास और पंचायती राज के सुधार में महत्वपूर्ण भूमिका निभाएंगी।

इससे भी पढ़े :- सरकार के गठन के बाद पहली बार बोले नरेंद्र मोदी- 9 जून को शपथ ग्रहण करूंगा |

मंत्री केदार गुप्ता ने जानकारी दी कि अस्थायी पदों (संविदा) के तहत लेखापाल सह आईटी सहायक के लिए 7070, तकनीकी सहायक के लिए 556, कार्यालय सहायक / डाटा एंट्री ऑपरेटर के लिए 03, ग्राम कचहरी सचिव के लिए 1400 और ग्राम कचहरी न्यायमित्र के लिए 2230 पदों पर नियुक्ति होगी। उन्होंने बताया कि नियुक्ति के लिए अधियाचना संबंधित को भेज दी गई है।

Today Breaking News, मंत्री ने वित्तीय वर्ष 2024-25 में होने वाली नियुक्तियों के लिए विभिन्न पदों के नियुक्ति/नियोजन का स्रोत बीपीएससी, बिहार कर्मचारी चयन आयोग, बीजीएसवाईएस, एसपीआरसी, बेल्ट्रॉन और जिला पदाधिकारी होंगे। इन नियुक्तियों के लिए उन्होंने विभिन्न संबंधित विभागों के लिए आवेदन संबंधित जगह पर भेजने की भी जानकारी दी। यह नियुक्तियां प्रदेश के विकास में निरंतर योगदान करेंगी और रोजगार के अवसरों में भी सुधार लाएंगी।

इससे भी पढ़े :- रामोजी फिल्म सिटी के संस्थापक रामोजी राव का 87 वर्ष की आयु में निधन |

इन विभागों में भी आने वाली है वैकेंसी

Bihar Job: इससे पहले स्वास्थ्य विभाग और कृषि विभाग में नियुक्ति की बात कही गई है। मंत्री मंगल पाण्डे ने कृषि विभाग के अंतर्गत सभी स्तर के रिक्त पदों पर शीघ्र ही रिक्तियों का निकालने का निर्देश दिया है। इसके लिए उन्होंने अधिकारियों से खाली पदों की लिस्ट जल्द देने को कहा है।वहीं स्वास्थ्य विभाग की ओर से भी विभिन्न पदों पर करीब 45 हजार रिक्तियों का निकालना गया है। बिहार के स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडेय ने इसकी जानकारी दी है। उन्होंने बताया कि इस प्रक्रिया में जिला स्तर पर भी रिक्तियों का अधिकारियों द्वारा निकालने का प्रावधान किया गया है।

web development
web development

इसके अलावा, कृषि विभाग ने भी खाली पदों की सूची जारी की है और शीघ्र ही इन पदों पर नियुक्ति की जाएगी। इसका मुख्य उद्देश्य कृषि सेक्टर में रोजगार के अवसरों को बढ़ाना और कृषि उत्पादन में सुधार करना है। इसके लिए सरकार ने अपनी योजनाओं को गति दी है ताकि प्रदेश के लोगों को नौकरी के मौके मिल सकें और कृषि क्षेत्र में विकास हो सके।

Bihar Job: बिहार में जल्द ही फटाफट सरकारी नौकरी के लिए तैयार रहें, कृषि विभाग में भी आने वाली है वैकेंसी , मंगल पाण्डे ने कृषि विभाग में रिक्त पदों पर शीघ्र रिक्तियों का निकालने का निर्देश दिया, अधिकारियों से खाली पदों की लिस्ट जल्द देने को कहा|

Bihar Job: मंत्री मंगल पांडेय ने बिहार कृषि विभाग के अधिकारियों के साथ एक बैठक की, जिसमें वे विभागीय योजनाओं की समीक्षा की और जल्द ही खाली पदों को भरने की बात कही। मुख्यमंत्री के निर्देश के आधार पर, उन्होंने कृषि विभाग के रिक्त पदों पर शीघ्र बहाली करने का निर्देश दिया। यह निर्देश उनके प्रमुख अधिकारियों को भी दिया गया है। इस संदर्भ में, उन्होंने बहाली प्रक्रिया की शुरुआत करने के लिए संबंधित अधिकारियों को भी निर्देश दिया है।

यह कदम बिहार के कृषि सेक्टर में नई ऊर्जा और सकारात्मकता को बढ़ावा देगा। रिक्त पदों की शीघ्र बहाली से सेक्टर में कार्यकर्ताओं की कमी को पूरा किया जा सकेगा और योजनाओं की अधिक विस्तारित और कारगर निर्माण की जा सकेगी। इससे कृषि विकास में गति आएगी और कृषि उत्पादन में वृद्धि होगी।

इससे भी पढ़े :- प्रमुख देशों की उपस्थिति में नरेंद्र मोदी की शपथ ग्रहण समारोह में खास बातें |

रिक्त पदों के संबंध में जानकारी देने का निर्देश

Bihar Job: कृषि विभाग ने रिक्त पदों की सूचना 15 जून तक प्रस्तुत करने का आदेश दिया है, ताकि स्वीकृत पदों के लिए आवेदन करने की सही समयरेखा मिले। इसके साथ ही, उन्होंने यह भी निर्देश दिया कि संविदा आधारित रिक्त पदों की भी जानकारी उपलब्ध कराई जाए।

Bihar Job: कृषि मंत्री ने बताया कि बिहार में खरीफ मौसम की शुरुआत हो गई है और इस मौसम में किसानों द्वारा धान, मक्का, अरहर, मोटे अनाज आदि की खेती की जा रही है। उत्तर बिहार में किसान रोहिणी नक्षत्र (25 मई) से ही धान का बीज गिराने की तैयारी में हैं, जबकि दक्षिण बिहार में धान का बीज प्रायः आर्द्रा नक्षत्र (22 जून) से गिराया जाता है। इससे कृषि क्षेत्र में सक्रियता और विकास की दिशा में नए उत्साह का संकेत मिलता है।

Today Breaking News, कृषि मंत्री ने बताया कि किसानों के बीच धान के विभिन्न प्रभेदों के बीज को अनुदानित दर पर वितरण कार्य जारी है। इस खरीफ मौसम में 76272.52 क्विंटल धान के बीज का वितरण करने की योजना है, जिसमें से अब तक 10901.29 क्विंटल धान के बीज वितरित किए गए हैं। उन्होंने अधिकारियों को बीज वितरण कार्य में तेजी लाने का निर्देश दिया है।राज्य में बीज, उर्वरक और पौधों के लिए कीट/व्याधि नियंत्रण की दवाओं की पर्याप्त मात्रा उपलब्ध है। इस खरीफ मौसम में जून तक 225000 मीट्रिक टन यूरिया की आवश्यकता है, जिसमें से अब तक 308333 मीट्रिक टन यूरिया उपलब्ध है, जो 137 प्रतिशत है।

Bihar Job
Bihar Job

यह सुनिश्चित करने के लिए कि कृषि क्षेत्र में विकास हो और खेती में वृद्धि हो, सरकार ने समय पर सभी आवश्यक संसाधनों की उपलब्धता का ध्यान रखा है।

Bihar Job: बिहार में जून माह तक 105000 मीट्रिक टन डीएपी, 100000 मीट्रिक टन एनपीके, और 15000 मीट्रिक टन पोटाश की आवश्यकता है, लेकिन अब तक केवल 42846 मीट्रिक टन डीएपी, 86850 मीट्रिक टन एनपीके, और 5818 मीट्रिक टन पोटाश ही उपलब्ध हैं। इसके लिए कृषि मंत्री ने किसानों से संतुलित मात्रा में उर्वरकों का उपयोग करने की अपील की है। इससे मिट्टी की उर्वरा-शक्ति बनी रहेगी, जिससे उत्पादन में वृद्धि होगी और किसानों को अधिक लाभ मिलेगा।

कृषि मंत्री ने इसे महत्वपूर्ण मानते हुए कहा कि उर्वरकों की सही मात्रा में खेती करना खेतीकरों के लिए बेहद लाभकारी हो सकता है। उन्होंने किसानों से अनुरोध किया कि वे अधिकतम संभावित उत्पादन के लिए योग्य उर्वरकों का उपयोग करें और खेती में नई तकनीकों का भी सहारा लें।

इससे भी पढ़े :- विश्व महासागर दिवस क्यों मनाते हैं? जानिए इसका इतिहास |

कृषि यंत्रों के लिए जिलेवार लक्ष्य निर्धारित

Bihar Job: मंत्री ने बताया कि किसानों की सुविधाओं का ख्याल रखते हुए बड़े-बड़े कृषि यंत्रों के साथ-साथ छोटे-छोटे कृषि यंत्रों का भी प्रोत्साहन दिया जा रहा है। सभी प्रकार के कृषि यंत्रों के लिए जिलेवार लक्ष्य निर्धारित किए गए हैं। विभिन्न प्रकार के कृषि यंत्रों के लिए किसानों से अब तक 75 हजार ऑनलाईन आवेदन प्राप्त हुए हैं, जिनमें से 45 हजार आवेदन सत्यापित किए गए हैं। 20 जून के बाद, आवेदक किसानों के बीच कृषि यंत्रों का वितरण लॉटरी के माध्यम से किया जाएगा।इस कदम से किसानों को अधिक सहायता मिलेगी और उनकी कृषि क्षमता में वृद्धि होगी। छोटे किसानों के लिए छोटे यंत्रों के प्रोत्साहन से कृषि उत्पादन में सुधार आएगा और उनका किसानी कर्म भी आसान होगा।

web development
web development

कृषि मंत्री पाण्डे ने बताया कि अक्षांश-देशान्तर के आधार पर प्रति एकड़ एक मिट्टी जांच नमूना लिया जाता है। अब तक 1 लाख 45 हजार मिट्टी जांच नमूना प्रयोगशाला में प्राप्त हो चुका है, जिनमें से 43 हजार से अधिक नमूने की जांच की जा चुकी है। मिट्टी जांच नमूने की जांच का कार्य प्रगति पर है।उन्होंने बताया कि बिहार में 72 ग्राम स्तरीय मिट्टी जांच प्रयोगशाला, 38 जिला स्तरीय मिट्टी जांच प्रयोगशाला, गया, मुंगेर और भागलपुर के अनुमंडल में 03 अनुमंडल स्तरीय मिट्टी जांच प्रयोगशाला कार्यरत हैं। इससे किसानों को मिट्टी की गुणवत्ता के बारे में जानकारी मिलेगी और वे अपनी खेती में सुधार कर सकेंगे।

राज्य में चलंत मिट्टी जांच प्रयोगशाला कर रहा काम

Bihar Job: राज्य में 09 चलती मिट्टी जांच प्रयोगशालाएं सक्रिय हैं, जो प्रमंडल स्तर पर कार्य कर रही हैं। इसके साथ ही, बिहार कृषि विश्वविद्यालय, सबौर, भागलपुर, और डॉ0 राजेन्द्र प्रसाद केन्द्रीय कृषि विश्वविद्यालय, पूसा, समस्तीपुर में भी मिट्टी जांच प्रयोगशालाएं स्थापित हैं। मंत्री ने 13 जून को सभी स्तर के मिट्टी जांच प्रयोगशाला प्रभारियों के साथ एक बैठक का निर्देश दिया।

Bihar Job
Bihar Job

Bihar Job: मंत्री ने बताया कि बिहार में प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना के अंतर्गत 80.60 लाख किसानों को प्रत्येक वर्ष 2-2 हजार रुपये की तीन किस्तों में दी जाती है। उन्होंने बताया कि 2018-19 से 2023-24 तक किसानों के खातों में 22353 करोड़ रुपये जमा किए गए हैं।इस सबके द्वारा, कृषि क्षेत्र में सुधार और विकास की दिशा में नई ऊर्जा और उत्साह मिलेगा। किसानों को उनके योगदान का सही मूल्य और सम्मान मिलेगा, जो कृषि सेक्टर के विकास में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं।

 

इससे भी पढ़े :- कंगना रनौत के खिलाफ CISF महिला कॉन्स्टेबल के खिलाफ एक्शन: सस्पेंशन से अब केस तक की कहानी |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *