Artificial Intelligence Teacher in Kerala: AI शिक्षक , पहली बार भारत में स्कूलों में AI टीचर, जानिए कैसे होगी पढ़ाई |

Artificial Intelligence Teacher in Kerala

Artificial Intelligence Teacher in Kerala: केरल में बच्चों की शिक्षा के लिए AI का उपयोग, भविष्य में बढ़ेगी AI रोबोट शिक्षकों की संख्या |

Artificial Intelligence Teacher in Kerala
Artificial Intelligence Teacher in Kerala

Artificial Intelligence Teacher in Kerala: आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस का क्षेत्र निरंतर प्रगति कर रहा है। इस क्षेत्र में प्रतिदिन नए-नए बदलाव हो रहे हैं। भारत में भी इस क्षेत्र में लगातार विकास हो रहा है। अब भारत में शिक्षा के क्षेत्र में भी आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस का उपयोग होने लगा है। इसी क्रम में केरल पहला राज्य बन गया है जहां AI Teacher की मदद से पढ़ाई कराई जा रही है। इसके लिए ह्यूमनॉइड रोबोट का उपयोग किया जा रहा है। जनरेटिव AI Teacher स्कूल टीचर को पिछले महीने ही स्कूल में शामिल किया गया था, और यह अब विद्यार्थियों के बीच काफी लोकप्रिय हो गया है।

Artificial Intelligence Teacher in Kerala: AI Teacher  न केवल विद्यार्थियों को विषयों को समझने में मदद करता है बल्कि उनके सवालों का उत्तर भी तत्परता से देता है। भविष्य में, इन AI Teacher रोबोट शिक्षकों की संख्या और बढ़ाने की योजना है, जिससे शिक्षा का स्तर और भी ऊंचा उठ सके। इस तकनीकी पहल से केरल शिक्षा के क्षेत्र में एक नई क्रांति की शुरुआत कर रहा है, जिससे विद्यार्थियों को अधिक इंटरैक्टिव और प्रभावी तरीके से शिक्षा प्राप्त हो रही है।

Artificial Intelligence Teacher in Kerala: केरल के तिरुवनंतपुरम के केटीसीटी हायर सेकेंडरी स्कूल में साड़ी पहने पढ़ाने वाली फीमेल टीचर रोबोट का नाम ‘आइरिस’ है। इसमें कई विशेषताएं हैं। AI Teacher रोबोट को लाने वाली कंपनी ‘मेकरलैब्स एडुटेक’ के अनुसार, आइरिस न केवल केरल में बल्कि पूरे देश में पहली जनरेटिव AI Teacher टीचर है। रिपोर्ट्स के अनुसार, आइरिस तीन भाषाओं में बोल सकती है और विद्यार्थियों के कठिन सवालों का उत्तर दे सकती है।

web Service
web Service

इससे भी पढ़े :-  चुनावी नतीजों के बाद बाजार ने दिखाई संभाल, सेंसेक्स 73 हजार के पार|

Artificial Intelligence Teacher in Kerala:आइरिस का नॉलेज बेस चैटजीपीटी जैसी प्रोग्रामिंग से बनाया गया है, जो अन्य ऑटोमेटिक शिक्षण उपकरणों की तुलना में काफी व्यापक और उन्नत है। यह रोबोट शिक्षक विद्यार्थियों के लिए अधिक इंटरएक्टिव और प्रभावी शिक्षा प्रदान करने में सक्षम है। आइरिस की यह विशेषताएं इसे पारंपरिक शिक्षकों से अलग और अधिक सक्षम बनाती हैं, जिससे छात्रों को न केवल पाठ्यक्रम को समझने में मदद मिलती है बल्कि उनकी जिज्ञासाओं का समाधान भी त्वरित और सटीक तरीके से होता है। इस पहल से केरल के शिक्षा क्षेत्र में एक नई क्रांति की शुरुआत हो रही है, जो भविष्य में और भी व्यापक रूप से अपनाई जा सकती है।

समान उत्तर देती है AI Teacher

Artificial Intelligence Teacher in Kerala: मेकरलैब्स के अनुसार, आइरिस को विद्यार्थियों के लिए ड्रग्स, सेक्स, और हिंसा जैसे विषयों की जानकारी पर ट्रेंड नहीं किया गया है। मेकरलैब्स के सीईओ हरि सागर ने बताया कि AI Teacher के साथ संभावनाएं अनंत हैं। आइरिस इंसानी प्रतिक्रियाओं से लगभग समान उत्तर देती है जब विद्यार्थी प्रश्न पूछते हैं। आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस (AI) से सीखना मजेदार हो सकता है।

इससे भी पढ़े :- बाजार में तेजी का माहौल, सत्र प्रारंभ से पहले गिफ्ट निफ्टी में 650 अंकों की बढ़त |

Artificial Intelligence Teacher in Kerala: स्कूल की प्रिंसिपल मीरा एमएन का कहना है कि 3 हजार से अधिक विद्यार्थियों वाले इस स्कूल के अगले अकादमिक सत्र में जनरेटिव AI रोबोट शिक्षकों की संख्या बढ़ाने की योजना है। इस पहल का उद्देश्य छात्रों को अधिक इंटरएक्टिव और प्रभावी शिक्षा प्रदान करना है। आइरिस की विशेषताएं इसे पारंपरिक शिक्षकों से अलग और अधिक सक्षम बनाती हैं, जिससे छात्रों को न केवल पाठ्यक्रम को समझने में मदद मिलती है बल्कि उनकी जिज्ञासाओं का समाधान भी त्वरित और सटीक तरीके से होता है।

Artificial Intelligence Teacher in Kerala
Artificial Intelligence Teacher in Kerala

इस तकनीकी पहल से केरल शिक्षा के क्षेत्र में एक नई क्रांति की शुरुआत कर रहा है। आइरिस न केवल केरल में बल्कि पूरे देश में अपनी तरह का पहला जनरेटिव AI Teacher टीचर है। यह तीन भाषाओं में बोल सकती है और विद्यार्थियों के कठिन सवालों का उत्तर देने में सक्षम है। आइरिस का नॉलेज बेस चैटजीपीटी जैसी प्रोग्रामिंग से बनाया गया है, जो अन्य ऑटोमेटिक शिक्षण उपकरणों की तुलना में काफी व्यापक और उन्नत है।

Artificial Intelligence Teacher in Kerala: आइरिस की सफलता से प्रेरित होकर, भविष्य में और भी अधिक AI Teacher रोबोट शिक्षकों को शामिल करने की योजना बनाई जा रही है। इससे शिक्षा का स्तर और भी ऊंचा उठेगा और विद्यार्थियों को नई और उन्नत तकनीकों के माध्यम से सीखने का अवसर मिलेगा। इस प्रकार की पहल से छात्रों को अधिक उत्साहपूर्वक और मजेदार तरीके से शिक्षा प्राप्त हो रही है, जो उनके समग्र विकास में सहायक सिद्ध होगी।

इससे भी पढ़े :- SEBI का नया नियम , कर्मचारियों और सलाहकारों पर बढ़ाई गई सख्ती, भ्रष्टाचारी अवस्थाओं का किया जाएगा सामना |

 

इससे भी पढ़े :- NSE ने इतिहास रचा: 6 घंटे में 1971 करोड़ का लेनदेन, बनाया विश्व रिकॉर्ड |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *