Site icon DPN

Abhishek Manu Singhvi News: केजरीवाल-संजय सिंह: कांग्रेस के बड़े नेता के ‘मसीहा’ बने, SC में दिलाई राहत के लिए दिया गया बड़ा समर्थन

Abhishek Manu Singhvi News: अभिषेक मनु सिंघवी ने अरविंद केजरीवाल को जमानत दिलवाई, कांग्रेस के वरिष्ठ नेता चर्चा में उभरे

Abhishek Manu Singhvi News

Abhishek Manu Singhvi News: अभिषेक मनु सिंघवी की सामर्थ्यवान दलीलों ने दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल और संजय सिंह को जमानत दिलाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। उन्होंने सुप्रीम कोर्ट में दोनों मामलों की पूरी रूप से तर्कसंगत विश्लेषण किया और न्यायिक निर्णय में सहायक हुए। इसके परिणामस्वरूप, दोनों नेताओं को अंतरिम जमानत प्राप्त हुई, जो कानूनी प्रक्रिया के अनुसार है।

Abhishek Manu Singhvi News: सिंघवी के योगदान से उन्होंने कांग्रेस पार्टी को न केवल न्यायिक संघर्ष में साथ दिया, बल्कि इससे पार्टी के संदेहास्पद नेतृत्व को भी मजबूती मिली। सिंघवी की स्थिरता और विधिक ज्ञान ने उन्हें इस मामले में महत्वपूर्ण रूप से विश्वसनीयता प्रदान की, जिससे उनके दलीलों ने न्यायिक समीक्षकों को प्रभावित किया। उनकी कुशलता और व्यवस्थित तरीके से दलील प्रस्तुत करने की क्षमता ने उन्हें एक प्रतिष्ठित न्यायिक के रूप में उच्च स्थान प्राप्त कराया।

web development

इंडिया टुडे की रिपोर्ट के अनुसार, सुप्रीम कोर्ट के जस्टिस बीआर गवई ने एक केस की सुनवाई के दौरान डॉ. अभिषेक मनु सिंघवी की समय पर की गई पाबंदी की सराहना की। उन्होंने कहा, “सभी को डॉ. सिंघवी से सीखना चाहिए कि कैसे सभी अदालतों में सही समय पर उपस्थित रहना चाहिए।”

Abhishek Manu Singhvi News: सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने भी कांग्रेस नेता की प्रशंसा की, कहते हुए, “डॉ. सिंघवी कभी छुट्टियां भी नहीं लेते।” उन्होंने उनकी कामकाजी निष्ठा की सराहना की और उनके समय के प्रति जिम्मेदारी को उजागर किया। इससे साफ होता है कि डॉ. सिंघवी ने अपने काम में उत्साह और संवेदनशीलता का परिचय दिया है। उनकी योगदान से समाज के न्यायिक तंत्र में सुधार हुआ है और उन्हें एक अग्रणी न्यायिक नेता के रूप में सम्मानित किया जाता है।

इससे भी पढ़े :- क्या केजरीवाल ED के खिलाफ SC में हल्फनामा देकर चुनाव प्रचार के लिए जेल से बाहर आएंगे? आज होगा फैसला |

कैसे केजरीवाल और संजय सिंह को दिलवाई जमानत? 

Abhishek Manu Singhvi News: सुप्रीम कोर्ट में केजरीवाल की पक्ष से दलीलें रखते हुए अभिषेक मनु सिंघवी ने शराब नीति मामले में प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) के आरोपों का पूरा प्रतिस्पर्धी जवाब दिया। सिंघवी ने कोर्ट को बताया कि कैसे आचार संहिता लागू होने के सिर्फ पांच दिन बाद ही केजरीवाल को गिरफ्तार किया गया था। जब सिंघवी ने इस मुद्दे को उठाया था, तभी सुप्रीम कोर्ट ने इशारा किया था कि वह केजरीवाल को जमानत देने वाली है। यह घटना शुक्रवार को देखने को मिली, जब उन्हें एक जून तक की अंतरिम जमानत मिली। इससे स्पष्ट होता है कि सिंघवी की निपुणता और उनके कानूनी ज्ञान ने इस मामले में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई, जिससे केजरीवाल को न्यायिक राहत मिली।

Abhishek Manu Singhvi News

Abhishek Manu Singhvi News: संजय सिंह के मामले में अभिषेक मनु सिंघवी ने सुप्रीम कोर्ट को बताया कि वह पांच महीने तक हिरासत में रहने के बावजूद ईडी ने कोई सबूत पेश नहीं किया था आप नेता के खिलाफ। संजय सिंह की गिरफ्तारी बिजनेसमैन दिनेश अरोड़ा के बयान के आधार पर हुई थी, जो ईडी और सीबीआई के लिए सरकारी गवाह बना था। सिंघवी ने अदालत को बताया कि अरोड़ा के 9 बयानों में संजय सिंह का जिक्र नहीं था, जबकि 10वें बयान में आप नेता का नाम लेने के बाद ही उन्हें अरेस्ट किया गया। संजय सिंह को 4 अप्रैल को जमानत दी गई।

कौन हैं अभिषेक मनु सिंघवी?

Abhishek Manu Singhvi News: अभिषेक मनु सिंघवी का जन्म 24 फरवरी, 1959 को राजस्थान के जोधपुर में हुआ था। उनकी शिक्षा का सफर उन्होंने काफी प्रतिष्ठित स्कूल और कॉलेजों से पूरा किया। उन्होंने दिल्ली के सेंट कोलंबा स्कूल से अपनी पढ़ाई पूरी की, और इसके बाद दिल्ली यूनिवर्सिटी के प्रसिद्ध सेंट स्टीफंस कॉलेज से अर्थशास्त्र में बैचलर डिग्री हासिल की। उन्होंने आगे बढ़ते हुए कैम्ब्रिज के ट्रिनिटी कॉलेज से पीएचडी की और फिर हार्वर्ड यूनिवर्सिटी से ‘पब्लिक इंटरनेशनल लॉ’ (पीआईएल) का कोर्स पूरा किया।

web development

उन्होंने अपनी शिक्षा में प्रगति की और विभिन्न प्रसिद्ध शिक्षा संस्थानों से उच्चतर शिक्षा प्राप्त की। इससे स्पष्ट होता है कि उनके पास गहरी शैक्षिक और विशेषज्ञता का बहुमूल्य अनुभव है।

Abhishek Manu Singhvi News: अभिषेक मनु सिंघवी को देश के शीर्ष वकीलों में गिना जाता है, जो अदालत में पेश होने के लिए 20.5 लाख रुपये की मोटी फीस लेते हैं। वे कांग्रेस प्रवक्ता के रूप में कार्य करते हैं, साथ ही उन्होंने यूपीए 2 शासन के दौरान कानून और न्याय पर संसदीय स्थायी समिति के अध्यक्ष का कार्य भी किया। उन्होंने भारत के सॉलिसिटर जनरल (एएसजी) के रूप में भी सेवाएं दी हैं। सिंघवी अक्सर कई महत्वपूर्ण मामलों के दौरान दलीलें रखते हुए नजर आते हैं।

 

इससे भी पढ़े :- केजरीवाल का रोड शो: सुप्रीम कोर्ट से मिली राहत के बाद आज हनुमान मंदिर में करेंगे पूजा-अर्चना |

Exit mobile version
Skip to toolbar