2000 Rupee Note: RBI की पुष्टि , 7755 करोड़ रुपये के 2000 के नोट लोगों ने दबाए बैठे |आरबीआई ने की पुष्टि

2000 Rupee Note: आरबीआई की पुष्टि , 7755 करोड़ रुपये के 2000 के नोट लोगों ने दबाए बैठे

2000 Rupee Note: RBI पिछले साल देश में 2000 रुपये के नोटों के मूल्य का 3.65 लाख करोड़ रुपये बंद हुआ था, लेकिन 97.82 फीसदी उसे वापस मिल गए |

2000 Rupee Note: आरबीआई की पुष्टि , 7755 करोड़ रुपये के 2000 के नोट लोगों ने दबाए बैठे
2000 Rupee Note: आरबीआई की पुष्टि , 7755 करोड़ रुपये के 2000 के नोट लोगों ने दबाए बैठे

आरबीआई ने पिछले साल 2000 Rupee Note को बंद कर दिया था, लेकिन इसके बावजूद लगभग 7755 करोड़ रुपये के नोट अब तक उसके पास वापस नहीं आए हैं। RBI के अनुसार, 97.82 फीसदी 2000 रुपये के नोट(2000 Rupee Note) उसके पास वापस आ चुके हैं, जबकि बाकी नोट अभी भी लोगों के पास हैं और उन्हें वापस नहीं किया गया है। इससे स्पष्ट होता है कि लोग अब भी पुराने नोटों का उपयोग कर रहे हैं और उन्हें बैंकों में वापस करने की प्रक्रिया में विलंब हो रहा है। यह खबर दर्शाती है कि समाज में नए नोटों के प्रति विश्वास की कमी है और इससे नोट बंद करने की योजना का असर भी कम हो रहा है।

3.65 लाख करोड़ रुपये मूल्य के नोट थे मार्केट में (2000 Rupee Note)

आरबीआई (RBI) ने सोमवार को बताया कि RBI 2000 Rupee Note को बंद करने का फैसला 19 मई, 2023 को लिया गया था। इस फैसले के समय लगभग 3.65 लाख करोड़ रुपये मूल्य के 2000 रुपये के नोट प्रचलन में थे। लोगों को इस नोट को बैंकों में जमा करने के लिए काफी वक्त मिला था, लेकिन बावजूद इसके, 97.82 फीसदी नोट ही वापस आ पाए हैं। लगभग 7755 करोड़ रुपये के नोट अब तक वापस नहीं आए हैं। आरबीआई (RBI)ने एक नए आंकड़े के मुताबिक बताया है कि यह स्थिति 31 मई, 2024 तक जारी रही है।

आरबीआई के इश्यू ऑफिस में दे सकते हैं 2000 का नोट (2000 Rupee Note)

केंद्रीय बैंक ने बताया कि 2000 रुपये के नोटों (2000 Rupee Note) को बदलने या जमा करने का मौका लोगों के पास 7 अक्टूबर, 2023 तक था। इस काम को वे किसी भी बैंक की ब्रांच में कर सकते थे। इन नोटों को बदलने के लिए लोग रिजर्व बैंक के 19 ऑफिस भी जा सकते थे। 9 अक्टूबर, 2023 से आरबीआई के इश्यू ऑफिस भी 2000 रुपये के नोट स्वीकार कर रहे हैं और इसे उनके अकाउंट में जमा करवा दिया जाएगा। इससे स्पष्ट होता है कि सरकार ने नोटों के बदलाव के लिए समय सीमा निर्धारित की है और लोगों को इसे बदलने का मौका दिया गया है। यह सुनिश्चित करता है कि वित्तीय प्रक्रियाएं सुचारू रूप से चल सकें और नोटों के प्रचलन में कोई बाधा न आए।

इससे भी पढ़े :- जम्मू कश्मीर के पुलवामा में मुठभेड़, सुरक्षाबलों ने 2-3 आतंकियों को घेरा |

नोटबंदी के ऐलान के बाद चलन में आया था यह नोट (2000 Rupee Note)

2000 Rupee Note की बंदी के बाद, लोगों के पास इन नोटों को बदलने या जमा करने के लिए कई विकल्प थे। इन्हीं में से एक विकल्प था इंडिया पोस्ट के माध्यम से आरबीआई इश्यू ऑफिस में नोट जमा कराना। इस प्रक्रिया के द्वारा लोग अपने अकाउंट में नोट जमा करवा सकते थे। आरबीआई के इश्यू ऑफिस भारत के कई शहरों में हैं जैसे कि अहमदाबाद, बेंगलुरु, बेलापुर, भोपाल, भुवनेश्वर, चंडीगढ़, चेन्नई, गुवाहाटी, हैदराबाद, जयपुर, जम्मू, कानपुर, कोलकाता, लखनऊ, मुंबई, नागपुर, नई दिल्ली, पटना और तिरुवनंतपुरम।

भारत सरकार ने नोटबंदी के बाद 2000 रुपये के नोटों का निकाला था। नोटबंदी के समय में 500 और 1000 के नोटों को बंद कर दिया गया था ताकि ब्लैक मनी के स्रोतों को प्रभावित किया जा सके और समाज में नए नोटों का प्रचलन हो सके। इस संदर्भ में, इंडिया पोस्ट का योगदान महत्वपूर्ण रहा क्योंकि यह एक सुविधाजनक विकल्प था जिससे लोगों को नोटों को बदलने और बैंक में जमा करने में आसानी हो सकती थी। इससे सरकारी प्रक्रियाएं भी स्मूद चलीं और नोटबंदी का उद्देश्य पूरा हुआ।

इससे भी पढ़े :- ‘सिस्टम का अपमान , EVM तोड़ने वाले विधायक को हाई कोर्ट से राहत, सुप्रीम कोर्ट का आक्रोश’

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *